अचानक से किस्मत खुलने के योग कौन से है – क्या कहता है ज्योतिष विद्या

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव:

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह को भाग्य का कारक ग्रह माना गया है और नवम भाव भाग्य का भाव है। भाग्य को प्रबल करने में कुंडली के त्रिकोण भाव जिन्हें लग्न, पंचम और नवम के नाम से जाना जाता है।

इन तीनों भावों के मध्य 120 अंश का अंतर होता है। इन तीनों त्रिकोणों का संबंध भाग्य को मजबूत करता है। तथा प्रत्येक नक्षत्र एक ग्रह द्वारा शासित होता है। हम जानते हैं कि ग्रह 9 हैं, और उनमें से प्रत्येक ग्रह 3 नक्षत्रों पर शासन करता है। एक ही ग्रह द्वारा शासित नक्षत्र एक दूसरे से 120 डिग्री या राशि चक्र में एक-दूसरे से त्रिकोण बनाते हैं।

उदाहरण के लिए – अश्विनी, मघा और मूला नक्षत्र केतु द्वारा शासित हैं। ये तीनों नक्षत्र अग्नितत्व राशियों के आरम्भ में होते हैं, जो एक-दूसरे से त्रिकोणस्थ होते हैं। जब एक नक्षत्र एक गोचर के ग्रह के साथ सक्रिय होता है तो यह उसी ग्रह द्वारा शासित अन्य दो नक्षत्रों को भी सक्रिय करता है।

• ज्यादातर वैदिक ज्योतिषियों द्वारा माना जाता है कि राहु और केतु दोनों को पंचम और नवम दृष्टि दी गई है। इस प्रकार राहु/केतु दोनों अपनी दृष्टियों से तीनों त्रिकोणों को जोड़ते हैं। यही वजह है कि राहु और केतु निश्चित रूप से जीवन में बड़े बदलाव करने का सामर्थ्य रखते हैं। इनकी स्थिति कई घटनाओं के घटित होने का कारण बनती हैं और भाग्योदय में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करती हैं।

• इसलिए बृहस्पति और राहु और केतु तीनों ग्रहों की एक समाज दॄष्टि है जो 1, 5, 9 या 120 डिग्री (त्रिकोण) का निर्माण करती हैं। ये सभी बिंदु एक-दूसरे से त्रिकोण भावों को जोड़ते हुए भाग्योदय के पहलू को मजबूती देते हैं।

• जब भी तीन ग्रह एक-दूसरे से 120 डिग्री होते हैं, तो वे कुंडली के महत्वपूर्ण बिन्दुओं को एक सुंदर भव्यता के साथ जोड़ते हुए भाग्योदय करते हैं। इसके अतिरिक्त यदि ये तीनों ग्रह इस स्थिति में किसी एक ग्रह के स्वामित्व में आने वाले नक्षत्रों में स्थित हों तो भाग्योदय होने के योगों को बल मिलता है।

आईये अब इन योगों को कुछ कुंडलियों पर लगा कर देखते हैं-
04/04/1997, 15:29, दिल्ली समय, कारोबार शेयर बाजार

इस दिन जातक को शेयर बाजार में बहुत बड़ा धन लाभ हुआ। घटना के समय बृहस्पति ग्रह मकर राशि में 21 डिग्री का था, राहु गोचर में कन्या राशि में 4 डिग्री का था। भाग्नेश मंगल लग्न में। राहु दूसरे भाव अर्थात धन भाव में तथा गुरु छ्ठे भाव में था।

गोचर में राहु, गुरु और दशम भाव को देख रहे हैं। तो गुरु भी तीनों अर्थ भावों से संबंध बना रहे हैं। राहू/केतु और गुरु तीनों ग्रह धन भाव को सक्रिय कर एक दूसरे से १२० अंश पर स्थित है। ग्रहों की इस स्थिति ने शेयर बाजार में धन अर्जित करने की स्थिति बनाई।

16/11/1991, 15:25, मुम्बई
घट्ना – लाटरी में धन प्राप्ति

घटना के समय बृहस्पति सिंह राशि में १७ डिग्री का था और राहु धनु में 17 डिग्री का था। दशम भाव में राहू की स्थिति, गुरु छ्ठे भाव में और केतु चतुर्थ में था। चतुर्थेश बुध भाग्य भाव में स्थित था। भाग्येश मंगल अष्ट्म भाव में स्थित हो अपनी सप्तम दृष्टि से धन भाव को सक्रिय कर रहा था।

गुरु और राहू भी धन भाव को सक्रिय कर रहे थे। इस प्रकार द्वितीय, षष्ठ भाव और दशम भाव तीनों ही आपसे में जुड़कर त्रिकोण भाव बनाते हुए, 120 अंश की दूरी पर थे। ग्रहों की यह स्थिति अचानक से धन लाभ प्राप्ति का कारण बनी।

13/12/1991 , 10:15, दिल्ली
अचानक से बड़ा धन योग प्राप्त हुआ

इस जातक को इस दिन एक अप्रत्याशित बड़ा धन लाभ हुआ। घटना के दिन गुरु २५ अंश का था, राहू धनु राशि १६ अंश के थे। आय भावेश आय भाव में, चंद्र धन भाव में केतु छ्ठे भाव और गुरु धन भाव को सक्रिय कर रहा था।

केतु ने दृष्टि से दशम भाव को अर्थात अर्थ भाव को सक्रिय किया, गुरु ने धन भाव को और गुरु ने तीसरे अर्थ भाव अर्थात छ्ठे भाव को सक्रिय किया। इस प्रकार तीनों अर्थ भाव सक्रिय हुए और जातक को बड़ी मात्रा में धन की प्राप्ति हुई।

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री
8178677715, 9811598848

ज्योतिष आचार्या रेखाकल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है। कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं। आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं।

इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं।

जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋणऔर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा,विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

Back to top button