मेरे देश की मिट्टी बोल तेरे मैं क्या क्या नाम धरूँ : रामेन्द्र त्रिपाठी

रायपुर । “जब भी कोई सूरज साधु हो जाता है, तो उसका नाम कबीर नानक या दादू हो जाता है” इन पंक्तियों के साथ राष्ट्रिय कवि संगम के प्रांतीय अधिवेशन के मुख्य सत्र का प्रारम्भ महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल कॉलेज रायपुर में सोनीपत से पधारे डॉ. अशोक बत्रा के सशक्त मंच संचालन हुआ।

“अपना प्राण कहूँ या तुझको हिंदुस्तान कहूँ मेरे देश की मिट्टी बोल तेरे मैं क्या क्या नाम धरूँ” इन पंक्तियों से आगाज करने वाले आगरा से आए वरिष्ठ कवि रामेन्द्र त्रिपाठी की देशप्रेम और भारतीय संस्कृति से ओतप्रोत कविताओं ने मंत्रमुग्ध कर दिया।

विभिन्न जिलों से आमन्त्रित किये गए वरिष्ठ साहित्यकारों को उनके काव्यक्षेत्र में तथा जिला इकाई के सक्रिय सदस्यों को इकाई के विकास में अमूल्य योगदान हेतु मुख्य अतिथि गौरीशंकर अग्रवाल अध्यक्ष छ. ग. विधानसभा, श्रीगोपाल व्यास पूर्व सांसद, डॉ. संजय अलंग संचालक समाज कल्याण विभाग रायपुर, गणेश शंकर मिश्रा सचिव जल संसाधन विभाग रायपुर, रामेन्द्र त्रिपाठी आगरा, चतुर्भुज अग्रवाल जी संरक्षक राष्ट्रीय कवि संगम छत्तीसगढ़ प्रान्त, योगेश अग्रवाल प्रांताध्यक्ष छत्तीसगढ़ प्रान्त द्वारा सम्मानित किया गया ।

विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने कहा राष्ट्रिय कवि संगम युवा कवियों को बेहतर मंच प्रदान कर रहा है। इससे नई प्रतिभाओं को बेहतर अवसर मिल रहे हैं। आयोजन का आगाज बाल कवियित्री त्रिपु साहू के द्वारा “आओ कलम से हम करें, माँ भारती की आरती” से हुआ। इसकी रचनाकार वरिष्ठ कवियित्री श्रीमती उर्मिला देवी उर्मि हैं।

” विज्ञान ज्ञान का वैभव हम और होठों पर गंगा है । आसमान पर लिख देंगे विजयी विश्व तिरंगा है ” जैसी पंक्तियों के साथ झारखंड से पधारे प्रान्त संयोजक दिनेश देवघरिया ने समस्त कवि श्रोताओं के मन में ओज का रस भर दिया । वर्तमान परिप्रेक्ष्य में कवि सम्मेलनों की स्थिति के बारे में समस्त कवियों को जानकारी देते हुए कविता प्रस्तुति पर बारीकियों को बताया । अंतिम सत्र के रूप में आमंत्रित कवियों के साथ ही प्रान्त के कवियों में रामेश्वर वैष्णव वरिष्ठ गीतकार, शालू सूर्या, हर्ष व्यास , साखी गोपाल पण्डा, भावेश देशमुख आदि द्वारा कवितापाठ प्रस्तुत किया गया । सम्पूर्ण कार्यक्रम की सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए महेश कुमार शर्मा प्रान्त संगठन महामंत्री राष्टीय कवि संगम छत्तीसगढ़ प्रान्त द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया ।

Back to top button