अक्षय तृतीया पर कल किस समय करे खरीददारी, और क्यों खास है? जानिए….

- मनीष शर्मा

मुंगेली: हिन्दू धर्म में वैशाख मास पुण्य मास माना जाता है । वैशाख शुक्ल तृतीया यानि अक्षय तृतीया आगामी 7 मई दिन मंगलवार को ग्रह-गोचरों के दुर्लभ संयोग में मनायी जाएगी।सोलह वर्षों के बाद पांच ग्रह एक साथ उच्च राशियों में निवास करेंगें। गुरु-मंगल के केंद्र में रहने से परिजात योग बन रहा है।मान्यता है कि अक्षय तृतीया अबूझ मुहूर्त है तथा इस तिथि पर किया गया व्रत-दान आदि अक्षुण्ण रहता हैं I इस दिन स्वर्ण, धातु और अन्य शुभ वस्तुओं की खरीदारी का विशेष महत्‍व होता है।

अक्षय तृतीया को लेकर महिलाओं ने अपनी पूरी तैयारी कर ली है वहीं ज्वेलरी दुकानदारों ने आकर्षण आभूषणों के साथ दुकानों को भी सजाने में जुट गए है माना जाता है कि अक्षय तृतीया को सोना खरीदना शुभ माना जाता है।बता दें धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसी दिन भगवान परशुराम की जयंती भी मनाया जाता है।

भविष्य पुराण के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन से ही सतयुग एवं त्रेता युग का आरंभ और महाभारत का अंत हुआ था I इसी दिन वृन्दावन स्थित बांके बिहारी के चरण दर्शन होते है I सृष्टि के निर्माता बह्मा के पुत्र अक्षय कुमार का आविर्भाव भी इसी दिन हुआ था.

पूजन व खरीदारी का शुभ मुहूर्त–

पूजा का शुभ मुहूर्त- प्रातः 05:40 बजे से दोपहर 12:17 बजे तक

स्वर्ण व अन्य सामग्री की ख़रीदारी का मुहूर्त- सुबह 06:26 बजे से रात्रि 11:47 बजे तक

तृतीया तिथि आरंभ- 06 मई को रात्रि 03:24 बजे से

तृतीया तिथि समाप्त- 07 मई को रात्रि 02:20 बजे

Back to top button