छत्तीसगढ़राज्य

क्या लगेगी शिक्षाकर्मियों की मांगो पर सरकारी मुहर ..या फिर हाथ लगेगा आश्वासन का पिटारा …?

9 सूत्रीय लंबित मांगो पर कुछ देर में होगी सीएम से चर्चा

रायपुर:मुख्यमंत्री और शिक्षाकर्मियों की चर्चा की ख़बरों के बीच एक बार फिर अटकलों का बाजार गर्म हो गया है .अब देखना ये होगा कि क्या आज देर शाम शिक्षाकर्मियों की 9 सूत्रीय लंबित मांगो पर सरकार की मुहर लगेगी या फिर आश्वासन का पिटारा ही शिक्षाकर्मियों के हाथ लगेगा.

इस चर्चा के बाद शिक्षाकर्मियों के चेहरों पर ख़ुशी होगी या आक्रोश ,इसके लिए अभी कुछ देर इन्तेजार है .अब से कुछ देर बाद शाम 7 बजे मुख्यमंत्री रमन सिंह के साथ शिक्षाकर्मियों की महत्वपूर्ण बैठक है. ,बैठक के लिए शिक्षाकर्मियों को आज अचानक सीएम हाउस तलब किया गया . बैठक में शामिल होने शिक्षाकर्मी संघ के बड़े नेता और पदाधिकारी सीएम हाउस पहुँच रहे हैं .

उल्लेखनीय है कि पिछले साल 20 नवंबर से संविलियन सहित 9 सूत्रीय लंबित मांगों को लेकर शिक्षाकर्मियों ने बेम्मुद्दत हड़ताल शुरू कर दी थी, ये हड़ताल सभी ओर चर्चा का विषय बना हुआ था .इसके बाद 4 दिसंबर की देर रात बिना किसी शर्त के शिक्षाकर्मियों ने आन्दोलन खत्म कर दिया था .वहीँ इस बीच संगठन के बड़े नेताओं के बीच टकरार की खबरे आई थी .इसी दौरान सरकार और शिक्षाकर्मियों के बीच महती बैठक भी हुई ,लेकिन वो बैठक बेनतीजा रही.

उल्लेखनीय है कि मार्च के महीने में मुख्य सचिव अजय सिंह के साथ शिक्षाकर्मियों की बैठक हुई थी. जिसमें शिक्षाकर्मियों के संविलियन पर कोई सकारात्मक चर्चा नहीं होने से नाराज शिक्षाकर्मियों ने 10वीं-12वीं की परीक्षा के उत्तरपुस्तिका के मूल्याकंन कार्य का बहिष्कार कर दिया है. 26 मार्च को इस संबंध में शिक्षाकर्मी संघ की ओर से सभी जिलों में कलेक्टर को ज्ञापन भी दिया गया था . संघ की ओर से अल्टिमेटम दिया गया है कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं हुई, तो 3 अप्रैल से शिक्षाकर्मी बोर्ड परीक्षा मूल्याकंन कार्य का बहिष्कार करेंगे.

congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.