24 घंटों में जो कुछ हुआ इसमे अधिकतर बातें झूठी : एयरटेल

कंपनी ने इस मामले में एयरटेल ने अपनी सफाई पेश की है।

नई दिल्ली। एयरटेल पर अपने कर्मचारी से भेदभाव करने का आरोप लगा था। कंपनी पर आरोप था कि एक कस्टमर द्वारा मुस्लिम कर्मचारी से बात करने से इनकार किया। जिसके बाद कंपनी ने उसे दूसरा कर्मचारी उपलब्ध कराया।

वहीं कंपनी ने इस मामले में एयरटेल ने अपनी सफाई पेश की है। एयरटेल ने अपनी सफाई में कहा है कि वह किसी भी धार्मिक कट्टरता के आगे नहीं झुका। कंपनी का कहना है कि पिछले 24 घंटों में बहुत कुछ हुआ। जिनमें अधिकतर बातें झूठी और गलत थीं।

कंपनी ने स्पष्ट किया कि इस घटना के बावजूद एयरटेल के ट्रेनिंग मैन्युअल में सवालों का जवाब देने से पहले ग्राहक की पहचान पर गौर किए जाने का निर्देश कभी शामिल नहीं किया जाएगा।

कंपनी ने माना कि उनके कर्मचारियों, गगनजोत और शोएब को इस घटना से शायद यह कड़वा अनुभव हुआ होगा कि उनकी धार्मिक पहचान मायने रखती है। और कंपनी का कहना है कि उसने कस्टमर के कहने पर कर्मचारी नहीं बदला था। ”

बता दें कि पूजा सिंह नाम की एक कस्टमर ने ट्विटर पर डीटीएच सर्विस से संबंधित शिकायत एयरटेल से की जिसके जवाब में कंपनी की ओर से शोएब नाम के एक कर्मचारी ने ट्वीट किया।

इस पर लड़की ने उस कर्मचारी से आगे बातचीत करने से इनकार कर दिया कि उसे मुस्लिम कर्मचारी पर भरोसा नहीं है। इसके बाद पूजा के सवालों का जवाब देने के लिए गगनजोत नाम का दूसरा कर्मचारी सामने आया।

कंपनी के इस फैसले को धार्मिक कट्टरता के सामने समर्पण के तौर पर देखा गया और कड़ी आलोचना होने लगी। यहां तक कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने एयरटेल के सारी सेवाएं बंद कराने का ऐलान कर दिया।

Back to top button