टेक्नोलॉजीबिज़नेस

अपनी विवादित प्राइवेसी पॉलिसी को नए सिरे से फिर से लागू करने की WhatsApp ने की तैयारी

ऐप ने अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को फरवरी में लागू करने की तैयारी की थी

नई दिल्ली:अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर इस साल जनवरी में फेसबुक के स्वामित्व वाले WhatsApp ऐप को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है. ऐप ने अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को फरवरी में लागू करने की तैयारी की थी और जनवरी में ही इन-ऐप नोटिफिकेशन्स के जरिए यूजर्स को नई पॉलिसी के बारे में जानकारी देनी शुरू कर दी थी.

हालांकि, डेटा प्राइवेसी की चिंता को लेकर इस नए अपडेट को यूजर्स की आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. यहां तक की भारत सरकार ने भी वॉट्सऐप से नए अपडेट को वापस लेने के लिए कहा था. WhatsApp ने अपनी विवादित प्राइवेसी पॉलिसी को नए सिरे से फिर से लागू करने की तैयारी कर ली है.

कंपनी एक बार फिर से ऐप में एक छोटे बैनर के जरिए इंडियन यूजर्स को अपनी नई पॉलिसी को समझाने की कोशिश करेगा और यूजर्स को नई पॉलिसी को 15 मई तक एक्सेप्ट करना होगा. बता दें वॉट्सऐप को अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर इस साल जनवरी में काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था.

बहरहाल, तमाम आलोचनाओं के बावजूद वॉट्सऐप अपनी अपडेटेड टर्म्स एंड सर्विस (ToS) को वापस नहीं ले रहा है, बल्कि कंपनी ऐप में ही एक बैनर जारी करेगी. ये यूजर्स को नई पॉलिसी के बारे में जानकारी देगा. साथ ही ये भी बताएगा कि कंपनी कैसे काम करती है.

वॉट्सऐप ने एक ब्लॉग के जरिए अपने पुराने दावे को फिर से दोहराया है और कहा है कि नई पॉलिसी कंपनी की यूजर डेटा को ऐक्सेस करने की क्षमता नहीं बढ़ाती है. शुक्रवार से ही मैसेजिंग ऐप यूजर्स को अपनी पॉलिसी अपडेट के बारे में अलर्ट करना शुरू कर देगा.

वॉट्सऐप के मुताबिक नई पॉलिसी को 15 मई से लागू किया जाएगा. ब्लॉग में ये भी साफ किया गया है कि फेसबुक टारगेट एडवर्टाइजमेंट के लिए व्यवसायों के साथ बातचीत का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा. ऐसा केवल तब होगा जब ये व्यवसाय फेसबुक के एड नेटवर्क का इस्तेमाल करने का ऑप्शन सेलेक्ट करेंगे.

नई पॉलिसी में जो गौर करने वाला बदलाव किया गया है वो ये है कि इसमें वो सेक्शन मौजूद नहीं है जो यूजर्स को फेसबुक के साथ डेटा शेयरिंग के लिए चॉइस देता है. इस सेक्शन के नहीं होने से नई पॉलिसी आने के बाद से वॉट्सऐप यूजर्स के पास इंफॉर्मेशन फेसबुक के साथ नहीं शेयर करने का ऑप्शन नहीं होगा. हालांकि, वॉट्सऐप ने साफ किया है कि नए अपडेट से लोगों के पर्सनल चैट की प्राइवेसी में कोई बदलाव नहीं आएगा. नया अपडेट केवल ‘ऑप्शनल बिजनेस फीचर’ का हिस्सा है.

वॉट्सऐप के मुताबिक, नए अपडेट से वॉट्सऐप में किसी बिजनेस के साथ चैटिंग या शॉपिंग के लिए नया तरीका मिलेगा और ये पूरी तरह से ऑप्शनल होगा. कुछ शॉपिंग फीचर्स में फेसबुक शामिल होगा ताकी बिजनेस ऐप्स के बीच अपनी इन्वेंट्री को मैनेज कर सकें. साथ ही ब्लॉग में आगे कहा गया है कि नया अपडेट ऐप के जरिए कमाई की कोशिशों का हिस्सा है ताकी वॉट्सऐप लोगों के लिए फ्री रहे.

कंपनी ने यूजर्स को ये ध्यान दिलाया है कि ये प्लेटफॉर्म इसलिए फ्री है क्योंकि वो बिजनेसेस को ऐसी सेवाओं के लिए चार्ज करते हैं. कंपनी ने कहा है कि लोगों को जनना चाहिए कि हम वॉट्सऐप को फ्री में कैसे उपलब्ध कराते हैं. हम बिजनेसेस को वॉट्सऐप पर कस्टमर सर्विस देने के लिए चार्ज करते हैं ना कि लोगों को. कुल मिलाकर कंपनी लोगों को एक बार फिर से याद दिलाएगी कि उन्हें कंपनी की नई प्राइवेसी पॉलिसी को एक्सेप्ट करना है या उन्हें अपना अकाउंट खोना पड़ेगा.

फिलहाल ये साफ नहीं है कि जिन यूजर्स ने पहले ही नई पॉलिसी को एक्सेप्ट किया था क्या उन्हें भी नया बैनर दिखाई देगा. नई पॉलिसी 15 मई से लाइव हो जाएगी और यूजर्स को तब तक इसे एक्सेप्ट करना होगा या ऐप का इस्तेमाल बंद करना होगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button