जब बीजेपी प्रदेश प्रभारी अनिल जैन ने पत्रकारों से पूछा क्या आप कांग्रेसी हैं?

रायपुर।

भाजपा प्रदेश प्रभारी अनिल जैन आज प्रेस कांफ्रेंस में एक सवाल पर भड़क गए। पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल पर भाजपा प्रभारी अनिल जैन ने पत्रकार से ही पूछ लिया क्या आप कांग्रेसी हैं? सवाल पूछा गया था कि हार के लिए जिम्मेदार कौन हैं? और हार के बाद इस्तीफा क्यों नहीं दिया गया ?

जिस पर अनिल जैन ने कहा कि क्या आप कांग्रेसी हैं ? प्रभारी के नाते हार की जिम्मेदारी मेरी है, लेकिन पद पर मुझे बने रहना है कि नहीं, ये पत्रकार तय नहीं करेंगे, मेरी पार्टी तय करेगी, मेरी पार्टी ने जो जिम्मेदारी सौंपी है, उसे निभा रहा हूं।

इसके बाद प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा नेताओं में वाद-विवाद शुरू हो गया। उसके बाद भाजपा नेताओं ने पूरे मामले को शांत कराया। हार की वजह बताते हुए प्रभारी अनिल जैन ने कहा कि एंटी इनकम बेंसी को हम भाप नहीं पाए थे। इस वजह से हमारी हार हुई इसे हम स्वीकार कर रहे हैं। अब परिस्थिति दूसरी है केंद्र में हम नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनने के लिए लड़ेंगें ओर यहां पर जो 10 सीट है उसे बरकरार रखने के लिए हम लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे।

मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान

प्रभारी अनिल जैन ने इस प्रेस कांफ्रेंस में मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया। उन्होंने कहा कि कई योजना मोदी जी ने बनाई है जिसमे से 35 योजना गरीबों के लिए बनाई है। भारत के प्रधानमंत्री ने किसानों को प्रमुखता से लिया है। किसान को कौन सी फसल करनी चाहिए इस पर भी भारत सरकार ने जोर दिया, 2022 तक किसान की आय दुगनी करने का लक्ष्य रखा है।

भाजपा की सरकार ने देश मे स्वास्थ्य सुधार कैसे आ सकता है उसमें जोर दिया । आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख इलाज के लिए दिया गया है। अब तक के 10 लाख लोग को इसका लाभ मिलेगा। देश भर में किसी भी जाति का हो या किसी भी वर्ग का हो , इन्हें 10 प्रतिशत आरक्षण दिया है ताकि वो देश की प्रगति में आगे आये।

सीबीआई को छत्तीसगढ़ में प्रवेश रोकने

उन्होंने सीबीआई को छत्तीसगढ़ में प्रवेश रोकने को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में कहा कि जो सरकार सीबीआई को रोक रही है। इसका मतलब ये है कि इनके मन मे कोई न कोई खोट है। उन्होंने कहा कि भाजपा राम मंदिर को लेकर आश्वस्त है कि राम मंदिर उसी जगह पर बनना चाहिये।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ये लोग राममंदिर मुद्दे पर अपने मेनिफेस्टो में किसी तरह का कोई जिक्र नहीं करते हैं। ये लोग मंदिर न बने इसलिए इसका विरोध करते हैं। इनकी मंसा साफ दिख रही है कि ये लोग क्या चाहते हैं।

1
Back to top button