राष्ट्रीय

जब इस शिवमंदिर में मुस्लमानों ने अदा की नमाज, जो बना एकता का गवाह

मंदिर में नमाज पर ना मंदिर प्रशासन ने ऐतराज जताया और ना नमाजियों ने कोई आना-कानी की

मंदिर में नमाज पढ़ी जा रही है. ये सुनकर ही आप चौंक जाएंगे. आपको लगेगा ये कैसे संभव है, लेकिन ये एकदम सच है. इसकी तस्दीक ये तस्वीरें करती हैं, जो अब हिन्दू-मुस्लिम एकता की बड़ी गवाह बन गई हैं.

दरअसल, शनिवार को उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर के जैनपुर गांव से गुजरते हुए मुस्लिम समाज के लोगों को नमाज पढ़ने के लिए साफ जगह की जरूरत थी. गांव में बने शिवमंदिर से जुड़े लोगों ने नमाजियों को मंदिर परिसर में ही नमाज पढ़ने के लिए कहा.

साथ ही उनके लिए पानी और खाने-पीने का भी इंतजाम किया. मंदिर में नमाज पर ना मंदिर प्रशासन ने ऐतराज जताया और ना नमाजियों ने कोई आना-कानी की.

मंदिर में नमाज पढ़ने का ये मामला तब सामने आया जब नमाज पढ़ते इन लोगों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुईं. मालूम हो कि बुलंदशहर में शनिवार से तबलीगी इज्तेमा शुरू हुआ है. तीन दिन तक चलने वाले इस धार्मिक आयोजन में शिरकत करने के लिए देश-विदेश से लाखों मुसलमान दरियापुर गांव पहुंच रहे हैं.

गांव के प्रधान गंगा प्रसाद के मुताबिक, कुछ मुस्लिम बंधू जब जैनपुर गांव में शिव मंदिर के करीब पहुंचे तो जोहर (दोपहर) की नमाज का वक्त हो गया,

लेकिन इज्तेमा में जाने वालों की इतनी भीड़ थी कि आगे तक जाम लगा हुआ था. वे लोग चाहकर भी इज्तेमा वाली जगह जाकर नमाज नहीं पढ़ सकते थे. तब उन लोगों ने गांव के हिंदुओं से मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने की इजाजत मांगी.

मुसलमान भाइयों की परेशानी को समझते हुए हम लोगों ने मंदिर में नमाज पढ़वाने का फैसला किया. फौरन ही वुजू के लिए पानी का इंतजाम कराया गया. मंदिर के पुजारी अमर सिंह वैद्य ने बताया कि जितने भी लोग थे, सभी ने वहां नमाज पढ़ी. उन्होंने कहा कि देश में भाईचारे का संदेश जाना चाहिए मंदिर सब के लिए है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
जब इस शिवमंदिर में मुस्लमानों ने अदा की नमाज, जो बना एकता का गवाह
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags