छत्तीसगढ़

…जब पुलिस का देख 150 करोड़ की ठगी का आरोपी ने किया हार्टअटैक का बहाना

मिलियन माइल्स इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपर्स लिमिटेड का संचालक ललित झाम अंबाला में गिरफ्तार

रायपुर। छत्तीसगढ़ में लोगों से करोड़ों का निवेश कराकर 70 करोड़ तथा देशभर में सौ से डेढ़ सौ करोड़ रुपए की ठगी करने वाले आरोपी को उस वक्त पसीन छृूट गया जब कार में बैठते ही छत्तीसगढ़ पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। करोड़ की ठगी कर आरोपी अंबाला के रिसोर्ट में छिपकर ठाट से जिंदगी गुजार रहा था।

कंपनी का कापोर्रेट दफ्तर हरियाणा, अंबाला तथा हेड आफिस नई दिल्ली में होने की जानकारी मिलने पर क्राइम ब्रांच की टीम अंबाला पहुंची। 20 दिनों तक लगातार नजर रखी। पकड़े जाने पर उसने पहले की तरह हार्ट अटैक आने का बहाना बनाया। अस्पताल ले जाने पर साफ हुआ कि उसे अटैक नहीं आया है तब पुलिस उसे अंबाला कोर्ट में पेशकर ट्रांजिट रिमांड पर लेकर रायपुर पहुंची। कंपनी के खिलाफ हरियाणा, बिहार में भी अपराध दर्ज है। पूर्व में अंबाला पुलिस उसे धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार भी कर चुकी है।

आलीशान दफ्तर खोलकर फैलाया ठगी का जाल : एसएसपी अमरेश मिश्रा ने बताया कि छत्तीसगढ़ समेत ओडिशा, दिल्ली, मध्यप्रदेश, हरियाणा में मिलियन माइल्स इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपर्स लिमिटेड के नाम से 2012 में ललित झाम ने आलीशान दफ्तर खोलकर ठगी का जाल फैलाया।

निवेशकों को होटल, कॉम्प्लेक्स के अलावा विभिन्ना योजनाओं में लाखों रुपये जमा करने पर तीन साल में डेढ़ गुना, पांच साल में दोगुना, साढ़े सात साल में तीन गुना तथा दस साल में चार गुना रकम देने का झांसा देकर भविष्य कृषि निर्माण बॉड जारी किया।

रायपुर-धमतरी हाइवे पर है 32 एकड़ भूमि : ठगी के पैसे से कंपनी के नाम पर रायपुर-धमतरी हाइवे पर कोडेबोड, कुरूद, धमतरी में 32 एकड़ भूमि खरीदकर निवेशकों को भरोसे में लिया। दो साल तक निवेशकों से 70 करोड़ की रकम जमा कराने के बाद अचानक देशभर में संचालित दफ्तरों को बंदकर ललित फरार हो गया।

जांच में खुलासा हुआ कि कंपनी ने देशभर में सौ से डेढ़ सौ करोड़ की ठगी की है। पांच राज्यों की पुलिस उसे तलाश रही थी, लेकिन हरियाणा के अंबाला स्थित रिसोर्ट में वह छिपकर ऐशो आराम के साथ फरारी काट रहा था। ठगी के शिकार नारायण साहू और अन्य की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने पिछले साल 27 अक्टूबर को धोखाधड़ी का केस दर्ज कर जांच शुरू की थी।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.