छत्तीसगढ़

जब अपने पति के साथ माँ बम्लेश्वरी मंदिर के गर्भगृह पहुंची लकवा ग्रस्त महिला

अमायूस वृद्धा को दर्शन कराने फिर देवी दूत बनकर सामने आई महिला कांस्टेबल

डोंगरगढ़: डोंगरगढ़ माँ बम्लेश्वरी के दर्शन मात्र के लिए प्रदेश और दूसरे राज्यों से भी बड़ी संख्या में भक्त माता के दर्शन करने के लिए यहां पहुंचते है। वहीं नागपुर के एक गांव से आई लकवा ग्रस्त महिला अपने पति के साथ माता के दर्शन करने मंदिर के गर्भगृह पहुंची।

अपने पति के साथ वह रोप वे से वह मंदिर तक तो पहुंच गई लेकिन उसके बाद की सीढ़ियां चढ़ना दुश्कर हो गया। रेंगती हुई कुछ सीढ़ियां चढ़ पाई कि उसकी तबियत बिगड़ने लगी। अमायूस वृद्धा को दर्शन कराने फिर महिला कांस्टेबल देवी दूत बनकर सामने आई।

80 से 90 सीढ़ियां चढ़ने के बाद वृद्ध महिला को माँ बम्लेश्वरी के दर्शन आरक्षक महिला ने कराए। इस बात से खुश होकर वृद्ध महिला के पति ने आरक्षक पूजा देवांगन को कुछ पैसे देने का प्रयास किया, लेकिन उसने इंकार कर दिया।

सोशल मीडिया में यह खबर तेजी से वायरल हुई। डीजीपी डीएम अवस्थी तक जब यह खबर पहुंची तो उन्होंने कहा कि यह पुलिस विभाग के लिए सम्मान की बात है। महिला आरक्षक ने निश्चित तौर पर सराहनीय काम किया है। उसे पुरस्कृत किया जाएगा।

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: