छत्तीसगढ़

बेटा अफसर बनकर पहुंचा तो झूम उठा गांव : डीआईजी

दंतेवाड़ा : भविष्य दृष्टि युवा सृष्टि के तहत लंच विद कलेक्टर कार्यक्रम का इस बार 15वां पड़ाव रहा, जिसमें इस बार मुख्य अतिथि डीआईजी सुंदरराज पी मुख्य अतिथि थेे। पुलिस अधिकारी के साथ बारसूर बालक हायर सेकंडरी स्कूल बारसूर के बच्चों ने न केवल सवाल किए, बल्कि साथ बैठकर लंच भी किया।
सीधे आईएएस-आईपीएस अफसरों से रू-ब-रू हो रहे बच्चों ने जब डीआईजी से उनके पढ़ाई से जुड़े किस्से के बारे में पूछा तो डीआईजी ने कहा कि, मैं तमिलनाडु के छोटे से गांव का रहने वाला हूं। माता-पिता ज्यादा पढ़े लिखे नहीं थे, इसलिए पढ़ाई की उलझनों को दूर करने वाला कोई नहीं होता था। पढ़ाई से जुड़ी कोई परेशानी होती थी तो गांव के ही शिक्षित व्यक्ति के पास पहुंचकर अपनी उलझनों को दूर करता था। अफसर बनकर जब गांव पहुंचा तो पूरा गांव झूम उठा। आप बहुत सौभाग्यशाली हैं, क्योंकि आपके कॅरियर का मार्गदर्शन देने खुद आईएएस-आईपीएस अफसर आपके साथ बैठते हैं। इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाएं। डीआईजी ने कहा कि, आपको जिस किसी भी क्षेत्र में रुचि है, उसी क्षेत्र में आगे बढ़ें। उन्होंने बच्चों से कहा कि, छत्तीसगढ का जन्म हुए 17 साल हुए, आपकी भी उम्र 17 साल है। आपकी तरह हमारा प्रदेश भी विकास कर रहा है। शासन की योजना का फायदा उठाकर हमेशा आगे बढ़ें।
इस दौरान एक छात्र ने आईएएस और आईपीएस बनने के लिए मार्गदर्शन मांगा और कहा कि, आप सभी को अफसर बनने में हुई कठिनाईयों के बारे में बताएं। इस पर प्रभारी कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ डॉ गौरव सिंह ने कहा कि, जीवन में कठिन कुछ भी नहीं होता। कोई भी काम हमें कठिन तब लगता है, जब हम मन में भय बना लेते हैं। खुद की इच्छा शक्ति, मेहनत और मार्गदर्शन सबसे जरूरी होता है। भय समाप्त कर मेहनत करोगे तो परिणाम जरूर मिलेगा। उन्होंने बच्चों को यूपीएससी की परीक्षा की उदाहरण सहित विस्तृत जानकारी भी दी। बच्चों के डॉक्टर बनने के सवाल पर एएसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने नीट की परीक्षा की तैयारियों के लिए टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि, एनसीईआरटी की बुक्स का गहन अध्ययन करो। टॉपिक्स तैयार करो, लक्ष्य तय करो और एकाग्र होकर पढ़ाई करो। जिस टॉपिक को आपने पढ़ा है, उसे मन में बार-बर दोहराते रहो। शुरूआत में कठिन रहेगा, लेकिन धीरे-धीरे सब कुछ आसान होता जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि, जितनी कोशिश हो लिख-लिख कर पढ़ाई करो। जरूर सफलता मिलेगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.