छत्तीसगढ़

जाएं तो जाएं कहां, निगम की सिटी से परेशान

ओडीएफ के लिए समझना और समझाना दोनो आवश्यक
पहले ही दिन सौ से अधिक लोगो को मिली समझाईश

–अनुराग शुक्ला

जगदलपुर. स्वच्छ भारत मिशन के तहत खुले में शौच मुक्त इलाका बनाए जाने को लेकर चल रहे सरकारी प्रयासों के बीच निगम ने शहर में जो नया प्रयास चालू किया है यह कितना सार्थक होगा इसे समझने की आवश्यकता है। फिलहाल निगम आयुक्त ने 48 वार्डों में निगम के कर्मचारी व अधिकारियों को तैनात किया है।

इन्हें सुबह पांच से सात बजे तक अलग अलग वार्ड में घूमना है और इस दौरान खुले में शौच करने वालों को सिटी बजाकर जागरूक करना है। ऐसे लोगो की परेशानी और समस्या को निगम के कर्मचारी जानेंगे और उन्हें खुले में शौच के नुक्सान से अवगत करवाएंगे। इस पहल के बीच शहर में एक बात और निकलकर सामने आ रही है कि निगम प्रशासन ने पहले अपनी ही व्यवस्था को दुरूस्त नहीं किया है। ऐसी बसाहट जो निगम ने मुहैय्या करवाई है वहीं पर शौचालय को लेकर सार्थक पहल नहीं हुई है।

अटल आवासों में ही सैप्टिक टैंक चोक है। ऐसे में इन इलाकों के रहवासियों का कहना है कि शौच के लिए वे कहां जाएं। अंदर व्यवस्था नहीं है और बाहर जाने पर निगम के कर्मचारी अब सिटी बजा रहे हैं। आयुुक्त निगम एके हलदार की मानें तो स्वच्छ भारत मिशन के तहत हमने जब पहल शुरू की है तो इन बातों को सामने लाया जा रहा है। जब परेशानी थी तो इसको लेकर शिकायत पहले नहीं की गई। हमारा उद्देश खुले में शौच को रोकना है साथ ही व्यवस्था को भी सही करने को लेकर पहल जारी है।

गुरूवार को निगम के 48 वार्डों में निगम कर्मचारियों ने अपनी तैनाती के अनुसार खुले में शौच करने वाले करीब सौ से अधिक लोगो को सचेत किया और उन्हें अवगत करवाया कि इससे क्या नफा नुक्सान होगा। निगम कर्मियों ने खुले में शौच करने वालों को यह भी बताया कि यदि उन्हें घर में शुष्क शौच चाहिए तो वे निगम में आवेदन दे सकते हैं।

गंगामुडा, दलपत सागर, प्रवीर वार्ड, लालबाग, धरमपुरा, राजेन्द्र नगर वार्ड, बोधधाट थाना रोड महारानी वार्ड, पल्ली नाका, कुमहार पारा, डोंगाघाट व अन्य क्षेत्रों मे खुले मे शौच जाने वाले को जागरूक किया गया साथ ही वार्डों मे जहां शौचालय निर्माण संबंधी समस्या उत्पन्न हुई वहां पर सुबह से कार्यपालन अंभियता अजीत कुमार तिगगा ने दौरा किया।

निजी शौचालय निमॉण की समस्या वार्ड के लोगों ने बताया इसपर ईई ने नाम लिखकर जल्द शौचालय निर्माण करने की बात कही। वही आयुक्त एके हलधर ने बताया स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहर को खुले मे शौच मुक्त करने के लिये लोगो मे जागरूकता लाने के लिये निगम के अघिकारी व कमॅचारियो की ड्यूटी लगाई गई है जो खुले मे शौच करने वाले लोगो को जागरूक कर उनकी समस्या दूर करेगे यह अभियान लगातार जारी रहेगा।

पहले ही दिन तीस नए शौचालय का आवेदन

निगम की इस पहल का असर यह दिखा कि पहले ही दिन की कार्रवाई के बाद तीस नए आवेदन शौचालय के लिए आए। निगम कार्यालय में नए आवेदन लेने की व्यवस्था बनाई गई है। इधर शहर के 48 वार्डों में निगम को कुल 3900 शौचालय का निर्माण ओडीएफ के लिए करना है। इसमें से निगम ने अब तक 1800 का निर्माण किया है। 11 सौ शौचालय बनाए जाने हैं। इसके अलावा नए आवेदनों का भी निराकरण किया जाना है।

Back to top button