क्रिकेट

गांगुली ने क्यों किया था भरोसा लोगो के टोकने के बाद भी

भारतीय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने खुलासा किया है कि साल 2005 में ग्रेग चैपल की बतौर भारतीय कोच नियुक्ति से पहले कई दिग्गजों ने उन्हें चेताया था. यहां तक कि इस मामले में चैपल के भाई इयान चैपल का रवैया भी सकारात्मक नहीं था

सौरव गांगुली ने ट्वीट करते हुए बताया कि उन्हें दिग्गजों ने उन्हें चेताया था”>भारतीय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने ट्वीट करते हुए बताया कि उन्हें दिग्गजों ने उन्हें चेताया था.सौरव ने ऐसे व्यक्ति पर भरोसा जताया जिन पर कोई नही करता था

गांगुली ने कहा, ‘उन्होंने विश्वास के साथ यह बात साझा की कि यहां तक उनके (ग्रेग के) भाई इयान का भी मानना है कि ग्रेग भारत के लिए सही पसंद नहीं हो सकते हैं. लेकिन मैंने इन सभी चेतावनियों को नजरअंदाज करने का फैसला किया और अपनी अंतररात्मा की आवाज सुनी ’

भारतीय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने खुलासा किया है कि साल 2005 में ग्रेग चैपल की बतौर भारतीय कोच नियुक्ति से पहले कई दिग्गजों ने उन्हें चेताया था. यहां तक कि इस मामले में चैपल के भाई इयान चैपल का रवैया भी सकारात्मक नहीं था. लेकिन सौरव गांगुली ने कहा कि उन्होंने इन सभी चेतावनियों को नजरअंदाज करने का फैसला करके उनकी नियुक्ति को लेकर अपनी अंतररात्मा की आवाज पर विश्वास किया, लेकिन इसके बावजूद सौरव गांगुली को इस फैसले पर मलाल है.

चैपल की कोच पद पर नियुक्ति से पहले गांगुली ने उनकी मदद ली थी. यहां तक वह 2003 के ऑस्ट्रेलिया दौर से पहले वहां के मैदानों की जानकारी लेने तथा खुद की और अपने साथियों की तैयारियों के सिलसिले में गोपनीय दौरे पर भी गए थे, उन्होंने चैपल से संपर्क किया क्योंकि उनका मानना था कि उनके मिशन में मदद करने के लिए वह सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति होंगे. गांगुली ने अपनी आत्मकथा ‘ए सेंचुरी इज नॉट इनफ’में लिखा है, ‘अपनी पिछली बैठकों में उन्होंने मुझे अपने क्रिकेटिया ज्ञान से काफी प्रभावित किया था’. लेकिन गांगुली को तब पता नहीं था कि यह साथ उस दौर का सबसे विवादास्पद साथ बन जाएगा.

ग्रेग की नियुक्ति के बारे में इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि 2004 में जब जॉन राइट की जगह पर नए कोच की नियुक्ति पर चर्चा हुई तो उनके दिमाग में सबसे पहला नाम चैपल का आया, उन्होंने लिखा, ‘मुझे लगा कि ग्रेग चैपल हमें चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में नंबर एक तक ले जाने के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति होंगे. मैंने जगमोहन डालमिया को अपनी पसंद बता दी थी’ गांगुली ने कहा, ‘कुछ लोगों ने मुझे ऐसा कदम नहीं उठाने की सलाह दी थी. सुनील गावस्कर भी उनमें से एक थे. उन्होंने कहा था सौरव इस बारे में फिर से सोचो. उसके (ग्रेग) साथ रहते हुए तुम्हें टीम के साथ दिक्कतें हो सकती हैं. उसका कोचिंग का पिछला रिकार्ड भी बहुत अच्छा नहीं रहा है’

Summary
Review Date
Reviewed Item
गांगुली ने क्यों किया था भरोसा लोगो के टोकने के बाद भी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *