अंतर्राष्ट्रीय

पाकिस्तान में क्यों लोग गुफाओं में रहने को है मजबूर, जाने पूरी खबर !

लोगों को पाकिस्तान पर हमला होने का डर है. तो क्या वाकई पाकिस्तान के लोग दहशत में हैं.

क्या पाकिस्तानियों को हमले का डर है? पाकिस्तान में क्यों बन रहे हैं बम प्रूफ मकान, पाकिस्तान में क्यों लोग गुफाओं में रह रहे हैं? सोशल मीडिया में आजकल ऐसी खबर वायरल हो रही है कि पाकिस्तान में लोग गुफाओं में रह रहे हैं.

वायरल खबर में कहा जा रहा है कि पाकिस्तान की गुफाओं में बने घरों में लोग इसलिए रह रहे हैं जिससे कोई बम गिरे तो वह बच सकें. पाकिस्तान पर आतंकवाद का ठप्पा तो लगा ही हुआ है, वायरल खबर में दावा है कि लोगों को पाकिस्तान पर हमला होने का डर है. तो क्या वाकई पाकिस्तान के लोग दहशत में हैं.

कहते हैं कि बोया पेड़ बबूल का तो आम कहां से खाए. जी हां, आतंकवाद और आतंकवादियों को पालने वाला पाकिस्तान अब खुद आतंक के नागों के जहर से परेशान है.

पाकिस्तान में बैठे आतंकी, पाकिस्तान को ही दहला रहे हैं. ऐसे में पाकिस्तानी गुफाओं में ऐसा घर बना रहे हैं, जो बमों के हमले में भी ना हिले.

पड़ताल में पता चला कि इस्लामाबाद से 60 किलोमीटर दूर एक गांव ही गुफाओं में बसा हुआ है, ये सारी गुफाएं बमरोधी होने के साथ भूकंपरोधी भी हैं.

इस गांव का नाम हसन अब्दुल है लेकिन हम ये जानना चाहते थे कि इन लोगों ने बमरोधी गुफाओं में बसने का फैसला क्यों किया. पड़ताल में जो सच्चाई सामने आई वो वायरल खबर से बिल्कुल अलग है.

हसन अब्दुल गांव में करीब 3 हजार लोग ऐसे गुफानुमा घरों में रह रहे हैं, ये मकान न सिर्फ भूंकप और बमरोधी हैं बल्कि शहरी घरों की तुलना में सस्ते भी हैं. ये मकान 40 डिग्री के तापमान में ठंडे और ठंड के दिनों में गर्म रहते हैं. ये इलाका मुगलों ने बसाया था और यहां के लोग ऐसे गुफानुमा मकान बनाने के सुझाव दूसरे लोगों को भी दे रहे हैं.

पड़ताल में सामने आया कि गुफानुमा घरों के अंदर बेड, अलमारी, पंखा समेत तमाम सामान है. इस तरह के मकानों को बनाने के लिए गुफा की खुदाई आमतौर पर हाथों से ही की जाती है.

दीवारों को प्लास्टर करने के लिए क्ले यानी मिट्टी का इस्तेमाल किया जाता है. इस वक्त पाकिस्तान में मकानों की बढ़ती कीमत के चलते ऐसी गुफाओं में बने मकान और भी लोकप्रिय हो गए हैं.

इन गुफाओं में रहने वाले लोग पाकिस्तान के मौसम के अनुकूल इन मकानों में रहने का सुझाव दे रहे हैं.

हालांकि इन गुफाओं में रहना आसान नहीं है, क्योंकि इनके अंदर सूरज की रोशनी नहीं पहुंचती. रोशनी के लिए बाहर से बिजली के तार ले जाए जाते हैं.

वैसे पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान ने लोगों की तकलीफों को समझते हुए कम से कम 50 लाख मकान बनाकर आवास संकट को दूर करने का वादा किया है.

अब देखने वाली बात ये होगी कि गुफा में बने मकानों को छोड़कर कितने लोग इमरान खान के बनाए मकानों में शिफ्ट होंगे. तो इस तरह से हमले के डर से बम प्रूफ घरों में रहने की खबर वायरल टेस्ट में फेल हुई.

 

Summary
Review Date
Reviewed Item
पाकिस्तान में क्यों लोग गुफाओं में रहने को है मजबूर, जाने पूरी खबर !
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags