ज्योतिष

क्यों होता है संतान प्राप्ति में विलंब, बहुत ही विशेष जानकारी

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

संतति सुख के लिए पंचम स्थान, पंचमेश, पंचम स्थान पर शुभाशुभ प्रभाव व बृहस्पति का विचार मुख्‍यत: किया जाता है। ज्योतिष के अनुसार मेष, मिथुन, सिंह, कन्या ये राशियाँ अल्प प्रसव राशियाँ हैं। वृषभ, कर्क, वृश्चिक, धनु, मीन ये बहुप्रसव राशियाँ हैं।

पंचम स्थान में पाप ग्रह हो तो संतति सुख में बाधा आती है।

पंचमेश यदि 6, 8,12 में हो या 6, 8,12 के स्वामी पंचम में हो तो संतान सुख बाधित होता है।

पंचमेश अशुभ नक्षत्र में हो तो संतान प्राप्ति में विलंब होता है।

पंचम का राहु पहली संतान के लिए अशुभ होता है।

लग्न पर पाप प्रभाव हो तो संतति विलंब से होती है।

लग्न, षष्ठ, सप्तम या अष्टम का मंगल संतान प्राप्ति में विलंब कराता है। (स्त्री-पुरुष दोनों की कुंडली में)

स्त्री की कुंडली में लग्न पंचम, सप्तम, भाग्य या लाभ में शनि हो तो संतान देर से होती है।

सूर्य-शनि युति संतान प्राप्ति में विलंब और संतान से मतभेद दिखाती है।

प्रथम या सप्तम का मंगल (स्त्री के लिए) कष्ट से संतान प्राप्ति का सूचक है।

पंचम स्थान पर पापग्रहों की दृष्टि संतान प्राप्ति में विलंब कराती है।

पत्रिका (कुंडली) में गुरु राहु यु‍ति हो व पंचम स्थान पाप प्रभाव में हो तो दत्तक संतान का योग बनता है।

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button