कुछ ही देर में लेंगे भूपेश सीएम पद की शपथ, राहुल गांधी रहेंगे मौजूद

सरकार के अन्य मंत्रियों के बारे में बाद में फैसला

रायपुर :

आनंदीबेन पटेल आज शाम भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाएंगी. सोमवार को बघेल मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, सरकार के अन्य मंत्रियों के बारे में बाद में फैसला लिया जाएगा.

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और प्रदेश के नए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्य सरकार अपनी पहली मंत्रिमंडलीय बैठक में किसानों का कर्ज माफ और जीरम हमले की एसआईटी जांच का फैसला लेगी.

बघेल ने रविवार को कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें जो जिम्मेदारी दी है वह उसे पूरा करेंगे. उन्होंने कहा कि नई सरकार के सामने नया छत्तीसगढ़ गढ़ने की चुनौती है. सरकार किसानों, नौजवानों और गरीबों के लिए काम करेगी.

बघेल ने कहा कि मंत्रिमंडल की पहली ही बैठक में किसानों का कर्ज माफ करने और जीरम घाटी हमले की एसआईटी जांच का फैसला लिया जाएगा. छत्तीसगढ़ में 25 मई 2013 में जीरम घाटी में हमला कर नक्सलियों ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार पटेल,

वी सी शुक्ला समेत कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं की हत्या कर दी थी. कांग्रेस ने इस घटना की सीबीआई जांच की मांग की थी और इस मामले में षड़यंत्र का आरोप लगाया था.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में उन्हें नेता चुना गया और अब वह सोमवार की शाम को राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. छत्तीसगढ़ में पिछले 15 सालों से के लिए तरस रही कांग्रेस को 68 सीटों पर जीत दिलाने में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल की बड़ी भूमिका रही है.

भूपेश बघेल (57) ने ऐसे समय पर कांग्रेस का राजनीतिक वनवास दूर किया है जब पांच साल पहले एक भीषण नक्सली हमले में राज्य कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व का सफाया हो गया था.

राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत आने वाला कुर्मी समुदाय प्रभावशाली माना जाता है. राज्य की कुल आबादी में इस समुदाय की हिस्सेदारी 14 फीसदी है. भूपेश बघेल राज्य के इसी बहुसंख्यक अन्य पिछड़ा वर्ग के कुर्मी समाज से आते हैं जो राज्य की राजनीति में काफी दखल रखता है.

राजनीति सफर

भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को दुर्ग जिले के सभ्रांत किसान परिवार में हुआ

उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरूआत 80 के दशक में की थी

वह लगातार कांग्रेस के कार्यक्रमों और आंदालनों में शामिल होते रहे

बघेल के कार्यों को देखकर पार्टी ने साल 1993 में उन्हें टिकट दी और वह पाटन विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीत गए

बाद में वह 1998 और 2003 में भी पाटन विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे

साल 2008 में वह इसी सीट से चुनाव हार गए थे

इस चुनाव में बीजेपी के विजय बघेल ने उन्हें हराया था

हार के बाद बघेल को साल 2009 में रायपुर लोकसभा सीट से पार्टी ने उम्मीदवार बनाया लेकिन वह रमेश बैस से चुनाव हार गए

बघेल पर पार्टी ने एक बार फिर भरोसा जताया और साल 2013 के विधानसभा चुनाव में उन्हें जीत मिली

साल 2013 में प्रदेश कांग्रेस की कमान मिलने के बाद भूपेश बघेल ने पार्टी को एकजुट किया और सरकार के खिलाफ भी मोर्चा खोला

new jindal advt tree advt
Back to top button