विप्रो ने अमेरिका में जरूरतमंद बच्चों को 10 हजार से अधिक नई पुस्तकें दान की

आईटी कंपनी ने ट्विटर पर यह जानकारी दी

वाशिंगटन। भारत की दिग्गज आईटी कंपनियों में से एक विप्रो ने अमेरिका में जरूरतमंद बच्चों को 10 हजार से अधिक नई पुस्तकें दान की हैं।

कंपनी ने ये पुस्तकें नैशविले, डलास और टंपा में बच्चों को वितरित की। बता दें कि विप्रो ने यह कार्यक्रम जरूरतमंद बच्चों को नई पुस्तकें, पढ़ाई-लिखाई का सामान तथा अन्य जरूरी सामान मुहैया कराने का काम करने वाली संस्था ‘फर्स्ट बुक’ के सहयोग से किया। आईटी कंपनी ने ट्विटर पर यह जानकारी दी। 

आपको बता दें कि पिछले कुछ सालों से विप्रो और फर्स्ट बुक बच्चों को नई किताबें मुफ्त में उपलब्ध करा रहे हैं। गौरतलब है कि भारत की लगभग सभी प्रमुख कंपनियां जैसे टीसीएस, इन्फोसिस और महिंद्रा अमेरिका में हर साल सामाजिक और धर्मार्थ के कार्यों के लिए लाखों डॉलर खर्च करती हैं।

Back to top button