छत्तीसगढ़

आत्मविश्वास के साथ चुनौतियों का करें सामना: अजय चन्द्राकर

-मोबाइल ऐप्प ‘स्टाप एड्स’ और वेबसाइट का किया शुभारंभ

रायपुर:

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अजय चन्द्राकर आज यहां एक निजी होटल में एच.आई.व्ही एड्स के साथ जीवन जी रहे लोगों के लिए आयोजित एक दिवसीय प्रदेश स्तरीय सम्मेलन में शामिल हुए। यह सम्मेलन छत्तीसगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी द्वारा आयोजित किया गया।

चन्द्राकर ने एच.आई.व्ही. एड्स के साथ जीवन जी रहे लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसे लोग आत्मविश्वास के साथ चुनौतियों का सामना करें। सरकार और समाज हमेशा उनके साथ है। समाज में उनका सम्मान बना रहेगा।

हमारा प्रयास है कि उनके साथ कहीं भी किसी प्रकार का भेदभाव न हो और उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिले। इस मौके पर श्री चन्द्राकर ने मोबाइल एप स्टाप एड्स और एड्स नियंत्रण सोसायटी की वेबसाइट का शुभारंभ किया। इस वेबसाइट और मोबाइल एप के जरिए कोई भी व्यक्ति एच.आई.व्ही. एड्स से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकता है। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री ने नियमित ए.आर.टी.दवा ले रहे है व्यक्तियों को सम्मनित किया।

श्री चन्द्राकर ने एड्स पीड़ितों के लिए काम कर रही संस्था पॉजिटिव पिपुल लिविंग के कार्यों की सराहना की। श्री चन्द्राकर ने उनकी विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए उचित पहल का आश्वासन दिया।

सम्मेलन को पाजेटिव पिपुल लिविंग और बस्तर नेट के अध्यक्ष श्री शब्बीर रंगरेज खान ने भी सम्बोधित किया। श्री शब्बीर ने बताया कि शुरूआती दौर में उन्हें एड्स से पीडित होने पर बताने में संकोच होता था। उन्होंने कहा कि एड्स पीड़ितों के लिए राज्य सरकार अनेक योजनाएं चला रही हैं। सावधानी और जागरूकता से ही एड्स से बचा जा सकेगा।

कार्यक्रम को छत्तीसगढ़ राज्य एड़स नियंत्रण सोसायटी के अतिरिक्त परियोना संचालक डॉ. एस.के. बिंझवार ने भी संबोधित किया। डॉ. बिंझवार ने कहा कि एच.आई.व्ही. एड्स के साथ जीवन जी रहे लोगों के प्रति सरकार की पूरी सहानुभूति है। ऐसे लोगों के लिए राज्य सरकार द्वारा निःशुल्क बस पास, मनरेगा में जॉब कार्ड, निःशुल्क ए.आर.टी. दवा, अन्त्योदय अन्न योजना, हाउसिंग बोर्ड के आवास में आरक्षण आदि का लाभ दिया जा रहा है।

डॉ बिंझवार ने बताया कि एड्स के प्रति सरकार द्वारा चालाए जा रहे जागरूकता अभियान का परिणाम है कि लोग एचआईव्ही जांच के लिए सामने आ रहे है।

जून 2018 तक 31 लाख 63 हजार से अधिक लोगों ने एचआईव्ही जांच करायी है। अनुमानित व्यस्क एचआईव्ही प्रिविलेंस दर वर्ष 2015 के अनुसार राज्य सूचकांक 0.19 है। राष्ट्रीय स्तर पर राज्य की स्थिति 18वीं है। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन संचालक डॉ. सर्वेश्वर सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन संयुक्त संचालक श्री महेन्द्र जंघेल ने किया।

Summary
Review Date
Reviewed Item
आत्मविश्वास के साथ चुनौतियों का करें सामना: अजय चन्द्राकर
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags