छत्तीसगढ़

बंदूक और बम से नहीं, लोकतंत्र से ही निकलेगा समाधान : मोदी

प्रधानमंत्री का कांग्रेस और अर्बन माओवाद पर सबसे बड़ा हमला

कहा-ऐसे लोग गलती से भी आ गए, तो बस्तर के सपनों को बर्बाद कर देंगे

जगदलपुर :
पहले चरण की बस्तर संभाग की 12 सीटों के लिए चुनाव प्रचार में जगदलपुर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोंडी बोली में अपनी भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि भाई दूज के पवित्र दिन कुछ मांगने आया हूं।

70 साल में जितने प्रधानमंत्री होंगे वो जितने बार आए होंगे, उससे कहीं ज्यादा बार मैं अकेले आया हूं। और जब भी आया हूं खाली हाथ नहीं आया ह,अपनी जिम्मेदारी अदा करने आया। आपकी आकंक्षा उम्मीद और विकास की योजनाओं को लेकर आया हूं।

मोदी ने कांग्रेस और अर्बन माओवाद पर जम कर निशाना साधा। उन्होंने कांग्रेस प्रवक्ता द्वारा नक्सलियों को क्रांतिकारी बताने पर सवाल उठाते हुए कहा कि जो अर्बन माओवाद के साथ खड़ा रहता हो, क्या उसे माफ करेंगे क्या ?.. ऐसे लोग गलती से भी आ गए, तो बस्तर के सपनों को बर्बाद कर देंगे।

मोदी ने माओवादियों को राक्षसी मनोवृति करार देते हुए कहा कि जिस उम्र में बच्चों के हाथों में कलम होनी चाहिए, उस वक्त में वो राक्षसी मनोवृति के लोग बच्चों के हाथों में बंदूक पकड़ा देते हैं।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो स्कूलों में आग लगा दे, वो राक्षसी प्रवृति नहीं तो और क्या है? जो युवाओं से रोजनार ना करने दे, वो राक्षसी मनोवृति नहीं तो और क्या है? उन्होंने माओवाद को संचालित करने वाले अर्बन नक्सलवाद पर निशाना साधते हुए कहा कि अर्बन माओवादी एयरकंडीशिनर रूम में रहते हैं,

अच्छे से और साफ सुथरे रहते हैं, अच्छे लोगों के साथ उठते बैठते हैं, बड़ी बड़ी गाड़ियां में चलते हैं ,लेकिन रिमोट कंट्रोल से जंगलों में माओवाद को संचालित करते हैं, कुछ लोग ऐसे हैं, जो अर्बन माओवाद के साथ खड़े होते हैं, अगर सरकार अर्बन माओवाद पर कार्रवाई करती है, तो वो इसका विरोध करते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने आम सभा में जनता से पूछा, अर्बन माओवाद के साथ खड़े होने वाले लोगों को माफ कभी करेंगे क्या? आपकी जिंदगी बर्बाद करने वाले लोगों को माफ करेंगे क्या ? ऐसे लोगों को छत्तीसगढ़ में घुसने देंगे क्या ? हमें बस्तर बदलना है कि नहीं हमें बस्तर का भविष्य संवारना है कि नहीं.. माता-बहनों का भविष्य बदलना है कि नहीं ?

इसलिए अनुरोध है कि बस्तर की सभी सीटों पर कमल ही खिलना चाहिए, अगर गलती से भी कोई और आ गया.. ऐसे छत्तीसगढ़ में वो कोई और आने वाला नहीं है..लेकिन अगर किसी कोने में कोई और आ गया तो बस्तर के सपनों में आग लगा देगा।

लोक तंत्र में ही समाधान

मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में सभी समस्याओं का हल है। उन्होंने कहा कि बस्तर के विकास के लिए भाजपा सरकार वचनवद्ध है। उन्होंने कहा कि बंदूक और गोली से समाधान नहीं निकलेगा, बातचीत की जरिया है।

अटलजी के सपनों का छत्तीसगढ़ बनाएंगे

बस्तर में हुए विकास कार्यों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में काम करने वाली सरकार चाहिए या काम में रुकावट डालने वाली सरकार चाहिए। अगर काम करने वाली सरकार चाहिए तो डबल इंजन वाली सरकार बनानी होगी।

एक छत्तीसगढ़ में रमन सिंह और दूसरी में नरेंद्र मोदी की सरकार। उन्होंने कहा कि गरीबों को कांग्रेस अपना खजाना मानती है। अपना वोट बैंक मानती है। इतने दिन हो गये लेकिन आज तक आदिवासी विभाग का मंत्रालय नहीं बनाया। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार बनी तो उन्होंने आदिवासी मंत्रालय बनया।

मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ अब 18 साल का हो चुका है। और छत्तीसगढ़ निर्माण के पीछे पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी के सपनों को पूरा करने तक वे चुप नहीं बैठेंगे। उन्होंने कहा कि बस्तर में कमल ही खिलना चाहिए।

उन्होंने वंशवाद पर कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि अब अपना पराया वाली राजनीति नहीं चलेगी। सबके साथ सबका विकास ही भाजपा का मूलमंत्र है। और आने वाली सरकार विकास के नए कीर्तिमान बनाएगी।

Tags
advt