सरपंच सचिव के द्वरा बिना कार्य किये फर्जीवाड़ा कर के लाखों रु आहरण

- योगेश केशरवानी

बलौदाबाजार: बलौदाबाजार जिले के बिलाईगढ़ जनपद पंचायत अंतर्गत ग्राम दुरुग के सरपंच सचिव द्वारा बिना विकास कार्य किये फर्जीवाड़ा कर लाखो रु आहरण करने का मामला सामने आया है। फर्जीवाड़ा का खुलासा तब हुआ जब दुरुग निवाशी मोहन महिलांग ने जनपद पंचायत बिलाईगढ़ से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी।

जिसमे लगे बिल फर्जी बताया जा रहा है साथ सरपंच पति धनाराम महिलांग के दुकान के नाम से भी बिल लगाया गया है जबकि धनाराम महिलांग नाम से कोई दुकान ही नही। जब इसकी शिकायत 6 बिन्दुओ मे कलेक्टर बलौदाबाजार के समक्ष किया तो बलौदाबाजार से जांच टीम पहुची। वही जाँच अधिकरियों द्वारा शा पूर्व माध्यमिक विद्यालय दुरुग में दोनों पक्षों का बयान लिया उसके बाद स्थल निरीक्षण करने पहुचे जहा विकास कार्य नही दिखा और शौचालय में भी बड़ी गड़बड़ी दिखी।

आपको बता दे कि यह ग्राम पंचायत मे 07,10,2017 को शैचालय पुर्ण होने का सरपंच सचिव द्वारा लिखित में जानकारी दिया गया है निरीक्षण पश्चात जब क्लीपर 28 की टीम ने जांच अधिकारी से जानकारी मांगा तो जवाब गोलमटोल दिया साथ ही जब शौचालय के सम्बंध में जानकारी पूछा तो अपना पैर पीछे कर लिए जबकि स्थल निरीक्षण ग्रामीण और क्लीपर 28 की टीम के सामने हुआ जिमसें बहोत से शौचालय अपूर्ण दिखा साथ ही जितना राशि का विकास कार्य बिल में दिखाया गया उसमे का कुछ भी कार्य नही दिखा।

जब इस सम्बंध मे क्लीपर 28 ने सरपंच पति धनाराम महिलांग से बात करना चाहा तो उसने बात करने से मना कर वहां से चला गया। शिकायत कर्ता का कहना है कि जांच में आये थे जांच किये स्थल निरीक्षण भी किये लेकिन कुछ कार्यवाही नही किये मैं जांच से सन्तुष्ट नही हु साथ ही ग्रामीणों द्वारा भी सिर्फ पंच लोग का बयान लेकर ग्रामीणों से कुछ बात नही किये न ही ग्रामीणो का कुछ सुने कहकर भड़ास देंखने को मिला। अब सवाल यह है कि जांच के बाद भी क्या कुछ कार्यवाही होगा या नही.

Back to top button