महिला समिति द्वारा त्रिदिवसीय रामायण में जुट रहे श्रद्धालु

- सोनू सेन

पिथौरा: समीपस्थ ग्राम अठ्ठारहगुड़ी में हस्तकला महिला स्वसहायता समूह द्वारा त्रिदिवसीय रामायण पाठ का आयोजन किया जा रहा है जहाँ कथा सुनने सैकड़ों की संख्या में महिला पुरुष जुट रहे है। इस आयोजन के दौरान अंचल के विभिन्न ख्याति नाम मानस मंडली शामिल हो भगवान श्रीराम के चरित्र का गुणगान कर रहे है।

आयोजन के तहत सोनम मानस मंडली अठ्ठारहगुड़ी, सरकडा, अमलीडीह, बालिका मानस मंडली पटपरपाली, बाल गोपाल मानस मंडली पिथौरा, श्रीराम मानस मंडली पिथौरा, स्वर संगम लाखागड़,

अर्जुनी मानस मंडली, आत्मा राम मानस मंडली दाब पाली, लचमीपुर, सोंनदादर ढांक सहित आस पास के ख्यातिनाम मानस मंडली शामिल होकर आयोजन को सफल बनाते श्रीराम चरित्र का गुणगान किया।

अंचल के ख्याति नाम प्रवचन करता बुधराम गजेन्द्र, घासीराम डड़सेना, हेम बाई यादव, रेवती डड़सेना ने भगवान राम के चरित्र को आत्मसात करने का आव्हान किया। राम की कृपा उसे ही प्राप्त होती है जो राम में आस्था रखे उनके आदर्श सत्य, दया, प्रेम को जीवन में उतारे राम कथा जहाँ होता है वहाँ की भूमि पुण्य भूमि होती है वहाँ के लोग धन्य हो जाते है।

Woman Committee organizes triennial Ramayana
महिला समिति द्वारा त्रिदिवसीय रामायण में जुट रहे श्रद्धालु

प्रवचन कर्ता हेम बाई ने कहा कि अत्याचार करना तो पाप है पर उसे सहना भी पाप है। किसी पर अत्याचार हो तो उसकी मदद करते अत्याचार करने वालो को रोंके तभी जीवन जीने की सार्थकता है। सात्विक जीवन जीते सदाचार को अपनाना चाहिये।

त्रिदिवसीय रामायण के आयोजन के दौरान प्रत्येक मानस मंडली को सरपंच महेंद्र डड़सेना द्वारा 100 रु की राशि, कौसल्या यादव मितानिन द्वारा 21 रु. आनंदराम डड़सेना द्वारा नारियल, बाल गोपाल मानस मंडली संचालक प्रवीण डड़सेना द्वारा धार्मिक चित्र प्रदान किया गया।

मानस मंडलियों के संगत में देवलाल डड़सेना तबला, हारमोनियम रामलाल ध्रुव, अपना सहयोग प्रदान किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में कैकई नाग, रामेश्वरी ठाकुर, लैला ठाकुर, अनीता डड़सेना,

शीतला डड़सेना, सविता डड़सेना, सोहड्रा ध्रुव, प्रेमिन ध्रुव, तपस्वनी धुबल, जानकी डड़सेना, राजकुमारी डड़सेना, जेमिन ठाकुर, रामबाई डड़सेना लता साहू, कौसल्या यादव सहित ग्रामवासी का विशेष सहयोग रहा।

Back to top button