नगर निगम की महिला अधिकारी और सुरक्षा कर्मी पर हमला, तीन उंगलियां कटीं

ठाणे नगर निगम प्रशासन ने महाराष्ट्र के ठाणे में अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान महिला सहायक निगम आयुक्त (एएमसी) पर हुए हमले की निंदा की है। अभियान के दौरान एक रेहड़ी पटरी वाले ने एएमसी पर चाकू से हमला कर दिया था जिसमें महिला अधिकारी की तीन उंगलियां कट गईं और उनके सिर पर चोट आई है। मजीवाड़ा-मनपाड़ा क्षेत्र की एएमसी कल्पिता पिंपले सोमवार को शहर के कासरवाड़ावली जंक्शन पर रेहड़ी-पटरी वालों को हटाने के अभियान की निगरानी कर रही थीं, तभी एक रेहड़ी-पटरी वाले ने उन पर चाकू से हमला कर दिया।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि हमले में पिंपले की तीन उंगलियां कट गईं और उनके सिर पर गंभीर चोटें आईं हैं, उन्हें बचाने की कोशिश में उसके सुरक्षाकर्मी की भी एक उंगली कट गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आरोपी ने बाद में आत्महत्या करने की धमकी दी, लेकिन उसे पुलिस ने पकड़ लिया है। आरोपी की पहचान अमर यादव के रूप में की गई है। सोशल मीडिया पर घटना का वीडियो वायरल हुआ है,जिसमें आरोपी चिल्लाते और चाकू लहराते दिखाई दे रहा है। अधिकारी ने बताया कि कासरवाड़ावली पुलिस ने यादव को गिरफ्तार करके उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है।

महिला अधिकारी को तत्काल एक निजी अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी उंगलियों को दोबारा जोड़ने के लिए ऑपरेशन किया गया। साथ ही, उनके सिर में आई गंभीर चोट का भी उपचार किया गया। महापौर नरेश म्हास्के ने नगर निगम की अधिकारी पर हमले की घटना पर चिंता व्यक्त की और कहा कि इस प्रकार की घटनाओं से नगर निगम का मनोबल नहीं गिरेगा और शहर में अतिक्रमण विरोधी अभियान तेज गति से चलाया जाएगा।

महापौर ने कहा कि महिला अधिकारी और उनके सुरक्षा कर्मी के इलाज का खर्च नगर निगम उठाएगा। ठाणे के संरक्षण मंत्री एकनाथ शिंदे सोमवार आधी रात को अस्पताल पहुंचे और उन्होंने पिंपले की सेहत के बारे में जानकारी ली। शिंदे ने कहा कि उन्होंने ठाणे पुलिस आयुक्त जय जीत सिंह से बात की और मामले में कड़ी कार्रवाई करने को कहा।ठाणे नगर पालिका के आयुक्त डॉ विपिन शर्मा ने कहा कि भविष्य में इस प्रकार के अभियानों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए जाएंगे। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के ठाणे-पालघर इकाई के प्रमुख अविनाश जाधव ने भी हमले की निंदा की और आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button