छत्तीसगढ़

सीताफल निर्मित आइस्क्रीम से महिला समूहों ने किया व्यवसाय

मुंगेली। जिले के आदर्श ग्राम हथनीकला के मिनीमाता खाद्य सुरक्षा समूह की महिलाओं ने सीताफल के पल्स से आइस्क्रीम बनाकर अच्छी आय अर्जित करने में सफल है

मुंगेली। जिले के आदर्श ग्राम हथनीकला के मिनीमाता खाद्य सुरक्षा समूह की महिलाओं ने सीताफल के पल्स से आइस्क्रीम बनाकर अच्छी आय अर्जित करने में सफल है जिससे उनकी दयनीय हालत में सुधार के साथ आत्मनिर्भरता के लिए यह कारगर कदम साबित हुआ।

महिलाएं इस कार्य को सफलता पूर्वक कर स्वयं एक दूसरे के लिए प्रेरणास्रोत बन रही हैं।

समूह की महिलाओं ने बताया कि वे वर्षो से पारंपरिक घरेलू व कृषि कार्य ही करती रही लेकिन उनके पास शेष बचे समय के लिए कोई काम नही रहता था समूह की प्रमुख राजकुमारी पात्रे ने बताया कि उन्हें कृषि विभाग से संचालित आत्मा योजना की जानकारी हुई उसके बाद इस योजना के लाभ के लिए स्वसहायता समूह की महिलाएं आगे आई।

इस समूह में दस महिलाएं शामिल है।

बता दें ग्राम हथनीकला के मिनी माता खाद्य सुरक्षा समूह की महिलाओं ने आत्मा योजनांतर्गत आइसक्रीम निर्माण व पलस एक्सट्रेक्शन मशीन एवं अन्य प्रशिक्षण प्राप्त किया। जिसके लिए कबीरधाम जिले में आयोजित कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम, भ्रमण किसान मेला में जाकर प्रशिक्षण लिया।

कवर्धा में जय दुर्गा माँ महिला कृषक अभिरुचि समूह की महिलाओं से प्रेरणा लेकर उत्साहपूर्वक कार्य करने का संकल्प लिया। उसके बाद कृषि विभाग मुंगेली ने भी सीताफल से आइसक्रीम निर्माण हेतु प्रशिक्षण दिया। महिलाओं ने बताया कि पूर्व कलेक्टर किरण कौशल के सहयोग से समूह को मनियारी फ्रूट्स प्रोजेक्ट अंतर्गत शामिल किया गया।

जिसके बाद आइसक्रीम निर्माण मशीन व एक्सट्रेक्शन उप्लब्ध हुआ।वर्तमान में मौसम के अनुसार समूह की महिलाओं द्वारा आइसक्रीम निर्माण कर विभिन्न आयोजनों ने स्टाल लगाकर विक्रय किया जा रहा है महिलाओं के इस व्यवसायिक महत्व को समझ अन्य समूहों की महिलाओं द्वारा भी प्रेरणा ली जा रही है।<>

Tags

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
%d bloggers like this: