पीरियड्स में महिलाओं को होता है दिल की बीमारी का खतरा, ऐसे करें बचाव

एक रिसर्च के अनुसार पीरियड्स के 10 साल बाद हार्ट अटैक के मामले में बढ़ोतरी देखी गई है।

पीरियड्स के दौरान लड़कियों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस दौरान वह पेट दर्द, तनाव और कमजोरी महसूस करतीं हैं।

इससे कई महिलाओं को दिल की बीमारियों का खतरा भी बड़ जाता है। एक रिसर्च के अनुसार पीरियड्स के 10 साल बाद हार्ट अटैक के मामले में बढ़ोतरी देखी गई है।

अगर आपको भी मेनोपॉज के वक्त ऐसी कोई समस्या होती है तो आप इसे बिलकुल भी इग्नोर ना करें।

शराब और धूम्रपान से दूरी

महिलाओं के शरीर में हार्मोन एस्ट्रोजन होता जो मेनोपॉज के वक्त काफी कम हो जाता है। इससे दिल के पास ज्यादा वसा जम जाती है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

ऐसे में आप शराब, मांस या सिगरेट का सेवन ना करें। सर्च का कहना है कि ध्रूम्रपान करने वाली महिलाओं में हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है।

डॉक्टर से चेकअप करवाएं

इस दौरान कई लड़कियों की दिल की धड़कन तेज होने लगती है। अगर आपको भी ऐसा होता है तो फौरन डॉक्टर से चेकअप करवाएं।

इसके अलावा गर्दन, कंधे, ऊपरी पीठ या पेट में जकड़न, सांस की तकलीफ, मतली या उल्टी, पसीना, हल्कापन या चक्कर आना और असामान्य थकान होने पर भी इसे इग्नोर न करें। यह हार्ट अटैक आने के लक्षण हैं।

पोष्क तत्वों से भरपूर डाइड

मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर कम होने से आपका वजन भी बढ़ सकता है। इसके अलावा ब्लड प्रेशर और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे आप हेल्दी आहार खाएं और अपनी डाइट में ओमेगा-3 फैटी एसिड शामिल करें।

कार्डियों एक्सरसाइज है बेस्ट

इस दौरान एस्ट्रोजन के स्तर काफी नीचे आ जाता है। इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में हफ्ते में कम से कम 30 मिनट के लिए कार्डियों एक्सरसाइज करें। इससे आपको काफी फायदा मिलेगा।

जॉगिंग करें

मेनोपॉज के दौरान जॉगिंग और साइक्लिंग करना काफी फायदेमंद है। अगर आप हेल्दी रहना चाहते हैं तो रोजाना जरूर जॉगिंग करें।

1
Back to top button