सऊदी अरब में आज से ‘स्टीयरिंग’ थाम सकेंगी महिलाएं, ड्राइविंग पर बैन हटा

रियाद।

सऊदी अरब में अाज से महिलाएं खुद गाड़ी चलाने में सक्षम हो जाएंगी। क्योंकि अाज से सड़कों पर नई सुबह दिखाई दिखाई देगी। रविवार से सऊदी अरब में पहली बार महिलाएं गाड़ी चला सकेंगी। आपको बता दें कि अभी तक दुनिया में सिर्फ सऊदी अरब में ही महिलाओं के गाड़ी चलाने पर प्रतिबंध था। जिसे कुछ दिन पहले सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने हटाकर ऐतिहासिक फैसला लिया था।

इस फैसले के बाद महिलाओं को गाड़ी चलाने का प्रशिक्षण देने के बाद ड्राइविंग लाइसेंस दिए जाने लगे। मगर लाइसेंस मिलने के बाद भी महिलाओं को 24 जून का इंतजार था, जो कि रविवार की सुबह खत्म हो जाएगा।

यह कदम सऊदी में महिलाओं के लिए मील का पत्थर साबित होगा, क्योंकि अभी तक उन्हें कहीं जाने के लिए पुरुष रिश्तेदार, टैक्सी ड्राइवर या अन्य किसी सहायता की जरूरत होती थी। लेकिन अब से वह खुद ड्राइव करके कहीं भी जा सकेंगी। एक अंग्रेजी वेबसाइट को दिए साक्षात्कार में सऊदी महिलाओं ने कहा कि, हम अपनी संस्कृति का सम्मान करते हुए इस फैसले का स्वागत करती हैं। हमारे समाज को कुछ समय जरूर लगेगा, लेकिन जल्द ही सभी इस बदलाव को अपना लेंगे।

सऊदी अरब में महिलाओं की स्थिति

सऊदी अरब में महिलाओं के प्रति होने वाली घरेलू हिंसा और यौन शोषण को रोकने के लिए कोई कानून नहीं है। एक स्टडी में यहां के 53 फीसदी पुरुषों ने माना था कि उन्होंने घरेलू हिंसा की है। वहीं, 32 फीसदी ने यह भी माना कि उन्होंने अपनी पत्नी को बुरी तरह चोट पहुंचाया।

सऊदी में महिलाएं अकेले प्रॉपर्टी भी नहीं खरीद सकतीं। यहां एक महिला के तौर पर प्रॉपर्टी खरीदने या बेचने के लिए दो पुरुष गवाह जरूरी हैं। यहां महिलाएं विदेश यात्रा नहीं कर सकतीं। पसंदीदा रहने की जगह नहीं चुन सकतीं। पासपोर्ट या फिर नेशनल आईडी कार्ड के लिए अप्लाई नहीं कर सकतीं।

सऊदी अरब में पुरुषों की तरह महिलाओं को कानूनी तौर पर बराबरी हासिल नहीं है। ऐसे कई काम जिन्हें पुरुष कर सकते हैं, लेकिन महिलाओं के लिए वो काम प्रतिबंधित हैं। पुरुष गवाह के बिना महिलाओं की पहचान की पुष्टि नहीं हो सकती। इसके साथ ही उन दो पुरुषों की विश्वसनीयता की पुष्टि करने के लिए चार और पुरुष गवाहों की जरूरत होती है।

Back to top button