सरपंच पारदर्शिता के साथ गुणवत्तापूर्वक कार्य कराएं : कलेक्टर

अविवादित नामांतरण बंटवारा का निपटारा एवं श्रमयोगी पेंशन योजना में करें सहयोग

मनीष शर्मा

मुंगेली। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने आज जिले के विकासखण्ड मुख्यालय पथरिया के मंगल भवन में आयोजित जिला अधिकारियों, सरपंच, सचिव, पटवारी एवं ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि सरपंच शासन की नीति नियम एवं उपलब्ध संसाधनों से पारदर्शिता के साथ गुणवत्तापूर्वक कार्य करायें। उन्होने कहा कि ग्राम पंचायतों का कार्यकाल लगभग एक वर्ष शेष है।

इसलिए सरपंच सचिव अनुशासन और समयबद्धता एवं व्यवहार में शालीनता रखते हुए विकास कार्यो को पूर्ण करायें। उन्होने पथरिया के मंगल भवन में सरपंच, सचिव, पटवारी एवं अधिकारियों की मैराथन समीक्षा बैठक ली। उन्होने पेयजल व्यवस्था, प्रधानमंत्री आवास, शिक्षा गुणवत्ता, मनरेगा एवं प्रधानमंत्री श्रम योगी पेंशन योजना की विस्तृत समीक्षा की। कलेक्टर ने सरपंचों से कहा कि नरवा, गरूवा योजना के तहत हर गांवों में 15 एकड़ जमीन चिन्हांकित करें। गांवों में प्रचलित गोठान उपलब्ध हो तो उसे प्राथमिकता दें।

गोठान के पास पेयजल एवं छाया के लिए पेड़-पौधे देख लें।कलेक्टर डॉ. भुरे ने सरपंच-सचिवों से कहा कि अविवादित नामांतरण बंटवारा के प्रकरणों को ग्राम पंचायतों में ही निपटायें। शासकीय भूमि पर अतिक्रमण नहीं होने दें तथा अतिक्रमण को तत्काल हटवायें। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री श्रमयोगी पेंशन योजना के अंतर्गत 18 से 40 वर्ष आयु के असंगठित श्रमिकों का पंजीयन कार्य में सहयोग करें। 60 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर पेंशन दिया जायेगा।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का पंजीयन कार्य में पटवारियों को सहयोग करने निर्देश दिये गये। उन्होने सरपंचों से कहा कि हर ग्रामों में शिक्षा गुणवत्ता के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए पालकों की बैठक अवश्य लें तथा आवश्यकतानुसार 14वें वित्त से अतिरिक्त शिक्षकों की व्यवस्था कर सकते है।

उन्होने अधिकारी और सरपंचों से कहा कि स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत ए.एन.एम. की उपस्थिति एवं मुख्यालय में निवास अनिवार्यतः किये जायेंगे। उन्होने सरपंचों से ग्राम पंचायतवार पेयजल समस्या, राजस्व प्रकरणों के निपटारे, किसान किताब, बी-1, नक्शा, खसरा, आवास निर्माण, राशन दुकानों में खाद्यान्न सामग्री एवं मिट्टी तेल की उपलब्धता एवं वितरण में होने वाले समस्या के संबंध में जानकारी ली।

कलेक्टर ने की मनरेगा एवं आवास योजना के कार्यो की समीक्षा- कलेक्टर ने सरपंच और सचिवों से कहा कि गोठान निर्माण और प्रधानमंत्री आवास योजना के आवास निर्माण 30 अप्रैल 2019 तक पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। सहायक संचालक उद्यानिकी ने बताया कि पथरिया विकासखण्ड में बाड़ी विकास कार्यक्रम के तहत 45 गांवों को चिन्हित किया गया हे। नरवा, घुरूवा का काम दो फेस में किया जायेगा।

उन्होने सरपंच सचिवों से कहा कि मनरेगा के तहत प्रत्येक परिवारों को काम उपलब्ध कराये जाने हेतु कार्य योजना बनायें। ताकि पलायन रोकने एवं औसतन मानव दिवस में वृद्धि की जा सके। उन्होने सरपंचों से कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायतों में एक कुंआ का निर्माण अवश्य करायें।कलेक्टर ने कहा कि जल संसाधन विभाग या ग्राम पंचायत से निर्मित स्टाप डेम/एनीकट का चिन्हांकन कर बरसात के पूर्व मरम्मत कराया जाना सुनिश्चित करें।

उन्होने सरपंच सचिवों से कहा कि गर्मी के मद्देनजर पेयजल सर्वोच्च प्राथमिकता है। पेयजल संकट की स्थिति में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को सूचित करें तथा 14वें वित्त की राशि का उपयोग पेयजल व्यवस्था में कर सकते है। आंगनबाड़ी भवन निर्माण एवं रेडी टू ईट की गुणवत्ता के संबंध में सरपंचों से जानकारी ली गई। कलेक्टर ने कहा कि जिन व्यक्तियों ने चिटफंड कंपनी में निवेश किया है राशि वापस नहीं हुई हो तो जनपद पंचायतों में स्थापित सुविधा केंद्र में आवेदन कर सकते है। उन्होने सरपंचों से समस्याओं के बारे में बारी-बारी से जानकारी प्राप्त की।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत पात्र किसानों को स्वघोषणा पत्र भरवाने में पटवारी, सचिवों को सहयोग करने कहा गया। बैठक में जिला पंचायत सदस्य श्रीमती जागेश्वरी वर्मा, जिला पंचायत के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी रीमन सिंह, जनपद पंचायत पथरिया के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुमार सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक उत्कर्ष तिवारी, तहसीलदार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, सरपंच-सचिव, पटवारी एवं ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button