छत्तीसगढ़बड़ी खबर

सशिम पिथौरा में विश्व दिव्यांग दिवस का आयोजन

हेमन्त खुटे ने विश्व दिव्यांग दिवस पर अपनी विमोचित शतरंज किताब को दिव्यांग महान हस्ती हेलन केलर को किया समर्पित

सोनू सेन की रिपोर्ट
पिथौरा: पिथौरा विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर सरस्वती शिशु मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पिथौरा में स्वयंसेवी सामाजिक संस्था दिव्यांग मित्र मंडल के संयोजन में विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर दिव्यांग विद्यार्थी सम्मान समारोह ,दिव्यांग जनों के प्रति हमारा दायित्व बोध विषय पर विचार संगोष्ठी एवं विश्व की महान हस्ती हेलन केलर की स्मृति में पुस्तक विमोचन कार्यक्रम का आयोजन किया गया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एस डी ओ पी पुपलेश कुमार पात्रे थे तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता पिथौरा तहसीलदार टी आर देवांगन ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में शहीद भगत सिंह शिक्षण समिति के अध्यक्ष रजिंदर खनूजा, उपाध्यक्ष रमाशंकर तिवारी, कोषाध्यक्ष यशवंत सिंह छाबड़ा एवं गुरुसिंघ सभा के सचिव त्रिलोक सिंह आजमानी मंचासीन थे।

सर्वप्रथम आमंत्रित अतिथियों ने भारत माता के छायाचित्र पर दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
सरस्वती शिशु मंदिर के विद्यार्थियों ने स्वागत गीत एवं राजकीय गीत अरपा पैरी के धार पर मनमोहक नृत्य की प्रस्तुति दी।

विचार संगोष्ठी के अंतर्गत दिव्यांग जनों के प्रति हमारा दायित्व बोध विषय पर शुरुआत करते हुए दिव्यांग मित्र मंडल के संयोजक बीजू पटनायक ने कहा कि दिव्यांग जनों के प्रति अपने दायित्व को समझना भी हमारे जीवन का एक ध्येय होना चाहिए।

दिव्यांग जनों के सामाजिक उत्थान के लिए सामाजिक पहल करते हुए उनके विकास के लिए निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। मुख्य अतिथि एवं वक्ता एसडीओपी पुपलेश कुमार पात्रे ने कहा कि दिव्यांग जीवन चुनौतियों से भरा होता है।

दिव्यांग जीवन जीने के लिए धैर्य और संयम की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि जीवन में गतिशीलता जरूरी है और हमें नदी की तरह आगे बढ़ने की कोशिश हमेशा जारी रखनी चाहिये । पुलिस की कार्यप्रणाली आज काफी बदल चुकी है।

पुलिस एक मित्र बनकर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को बखूबी निर्वहन कर रही है ।

शहीद भगत सिंह शिक्षण समिति के अध्यक्ष रजिंदर खनूजा ने कहा कि यह हमारा सामाजिक दायित्व है कि दिव्यांग जनों के मन में व्याप्त कुंठा और नकारात्मक विचारों को मिटाये और उनके लिए एक सकारात्मक माहौल निर्माण करते हुए आत्मविश्वास, साहस और लक्ष्य के प्रति एकाग्रता बनाए रखने के लिए उन्हें प्रेरित करें। यह काम हम सभी सहज रूप से कर सकते हैं।

शतरंज पुस्तक के लेखक हेमंत खुटे ने कहा कि हेलन केलर विश्व की महानतम दिव्यांग हस्ती थी। मूकबधिर, श्रवण एवं दृष्टिबाधित होने के बावजूद उन्होंने खेलने के लिए शतरंज जैसे दिमागी खेल को चुना।इसके अलावा उन्होंने कई विश्वप्रसिद्ध किताबे भी लिखीं। हेमन्त ने अपनी लिखी शतरंज की विमोचित पुस्तक को उन्हें सादर समर्पित किया ।

विचार संगोष्ठी सत्र की समाप्ति पश्चात
दिव्यांग विद्यार्थी सम्मान के तहत स्कूल में अध्यनरत 6 दिव्यांग विद्यार्थियों का अतिथियों ने तिलक वंदन कर उपहार भेंट कर सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में कु पल्लवी यदु, कु निधि यदु , बलराम निषाद, मनोज निषाद ,धनंजय सिन्हा एवं आर्यन निर्मलकर प्रमुख है ।

इस अवसर पर दिव्यांग मित्र मंडल के योजना एवं प्रबंधन प्रभारी हेमंत खुटे द्वारा लिखित उनकी चौथी किताब थ्योरी चेक मेट्स का विमोचन मुख्य अतिथि पुपलेश कुमार पात्रे ने किया। इस अवसर पर गुरदीप सिंह चांवला, अमृत लाल कुर्रे,हरमीत सलूजा,जसबीर आजमानी,कृष्ण कुमार तिवारी एवं विद्यालय के समस्त शिक्षकगण उपस्तिथ थे। कार्यक्रम का संचालन आचार्य सीताराम पटेल ने तथा आभार प्रदर्शन प्राचार्य नंदूराम निर्मलकर द्वारा किया गया।

Tags
Back to top button