वर्ल्ड स्नेक डे विशेषः जानिए क्यों नर स्नेक्स की जीवन अवधि मादा के मुकाबले होती है कम

वर्ल्ड स्नेक डे

वैज्ञानिकों को लगता था कि नर सांप सहवास के दौरान हावी रहते हैं, मगर अमेरिका के मेक्सिको हाईलैंड्स विश्वविद्यालय में हर्पीटोलॉजिस्ट (सांपो के विशेषज्ञ) जीजस रिवास ने शोध में कुछ और पाया।

कनाडा में पाए जाने वाले गार्टर स्नेक्स में नर मादाओं के मुकाबले कम जीते है। इसके पीछे का कारण उनका अधिक सहवास करना होता है।

सांपों की सेक्स लाइफ बेहद अजीबो-गरीब होती है। किसी प्रजाति में अधिक सहवास इनकी जान ले लेता है, तो किसी में मादा सेक्स के बाद नर को निवाला बना लेती है। वहीं, कुछ प्रजातियों में सैकड़ों सांप एक मादा के साथ संबंध बनाते हैं। आइए वर्ल्ड स्नेक डे (16 जुलाई) पर जानते हैं सांपों के प्रजनन तंत्र के बारे में।

एक मादा पर टूट पड़ते हैं सैकड़ों नर: कनाडा के मैनिटोबा में गार्टर स्नेक्स पाए जाते हैं। ये भूरे-पीले और हल्के लाल (नर) रंग के होते हैं, जबकि मादा की खाल सिर्फ भूरी व पीली होती है। इन नर सांपों की जीवन अवधि मादा के मुकाबले कम होती है। कारण- उनका अधिक सहवास करना होता है। ये सांप सैकड़ों की संख्या में एक मादा पर टूट पड़ते हैं। अतिसक्रिय होकर ये गुच्छे बनाते हैं। फिर उनके साथ सहवास करते हैं। वे इस क्रिया के दौरान एक मादा पर काफी देर तक लिपटे रहते हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इन नर स्नेक्स की जीवन अवधि मादा के मुकाबले कम होती है। इसका कारण उनका अधिक सहवास करना होता है।

8 माह बिन खाए-पिए रहते हैंः गार्टर नर सांप मादा के मुकाबले जल्दी परिवक्व हो जाते हैं। वे आठ माह तक बिल में रहते हैं। एक्सपर्ट्स की मानें तो, ये स्नेक्स बगैर खाए पिए ही बिल में वक्त गुजार सकते हैं। वसंत ऋतु आते ही, वे बाहर निकलते हैं और सहवास में जुट जाते हैं। वैज्ञानिकों को लगता था कि नर सांप सहवास के दौरान हावी रहते हैं, मगर बाकी प्रजातियों में ऐसा नहीं है।

सेक्स के बाद इतने दिन जीते हैं नर: सिडनी यूनिवर्सिटी के क्रिस्टफर फ्रीजेन ने बताया कि मादा गार्टर सांप बिल के पास ही रहती हैं। एक से तीन दिन तक वे नर सांपों के साथ संबंध बनाती हैं। उसमें से बहुत कम ही नर होते होंगे, जो एक हफ्ता या फिर 21 दिन जी पाते होंगे। तो आइए देखते हैं कैसे ये सांप अपनी जीवन अवधि कम कर लेते हैं।

सेक्स के बाद नर को खा जाती है मादा: अमेरिका के मेक्सिको हाईलैंड्स विश्वविद्यालय में हर्पीटोलॉजिस्ट जीजस रिवास ने अनाकॉन्डा सांपों से जुड़े शोध में कुछ और ही पाया। उनके मुताबिक, सहवास के बाद मादा कई बार अनाकॉन्डा नर को निवाला बना लेती है। यह मादा सांप कई बार नर से पांच गुणा बड़ी होती है।

बड़ा आकार उन्हें अधिक अंडे देने और बच्चों को जन्म देने में सहायता करता है। ऐसे में अक्सर छोटे नर सांप बड़े आकार वाली मादा को सहवास के लिए ढूंढते हैं।

नर को यूं लुभाती है मादा अनाकॉन्डाः चीज से लुभाती है हालांकि, इन नर सांपों के मादा से बड़े होने का खास फायदा नहीं होता। चूंकि ये सांप पूंछ से दूसरे नर सांपों को धक्का देकर मादा के जननांग तक पहुंचते हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इन सांपों को ढंग से दिखता भी नहीं है। ऐसे में सहवाह की इच्छा अधिकतर मादा जाहिर करती है। पहले वह केंचुल छोड़ती है, जिससे नर सांपों आकर्षित होते हैं।

<>

advt
Back to top button