भारत के बाद अब पाक पर बरसा अफगानिस्तान

न्यू यॉर्क: संयुक्त राष्ट्र में भारत के बाद अब अफगानिस्तान ने भी पाकिस्तान को आतंकवाद का समर्थन देश बताकर उसपर निशाना साधा है।

सुरक्षा परिषद में अफगानिस्तान के विदेश मंत्री सलाउद्दीन रब्बानी ने कहा है कि उनका पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान उनके देश को अस्थिर करने की लगातार कोशिश कर रहा है।

रब्बानी ने कहा, ‘लगातार उकसावे की कार्रवाई होने के बावजूद अफगानिस्तान ने सैद्धांतिक नीति अपनाई हुई है।

अफगानिस्तान-पाकिस्तान के रिश्तों से मतभेद दूर करने के लिए बातचीत, कूटनीति और शांतिपूर्ण तरीकों का इस्तेमाल किए जाने की कोशिश है।’

रब्बानी ने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी छवि और अपने रुख को साफ करने के लिए अभी तक पाकिस्तान कोई सकारात्मक जवाब देने में असफल रहा है।

आतंकवाद का दंश अफगानिस्तान को लंबे समय से प्रभावित कर रहा है, यह हमारे पड़ोसी मुल्क की लंबे समय से चली आ रही रणनीति का हिस्सा है ताकि अफगानिस्तान को अस्थिर किया जा सके।’

रब्बानी ने कहा, ‘अफगानिस्तान कई दशकों से यह खतरा झेल रहा है। इन आतंकियों की जड़ें अफगानिस्तान के बाहर आतंकी कैंपों और सुरक्षित पनाहगाहों में है।’

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब ऐसा हुआ हो। इससे पहले शुक्रवार को भी अफगानिस्तान ने सीधे तौर पर पाकिस्तान पर निशाना साधा था।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में अफगानिस्तान के प्रतिनिधि ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि वह आतंकवाद से निपटने में अपनी असफलता पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहा है।

पाकिस्तान के पीएम शाहिद खाकन अब्बासी ने अपने भाषण में कहा था कि तालिबान के सुरक्षित ठिकाने पाकिस्तान नहीं बल्कि अफगानिस्तान में हैं।

इस पर अफगानिस्तान ने कहा था कि दुनिया को यह पता है कि काबुल में अस्थिरता फैलाना का मुख्य स्रोत पाकिस्तान से संचालित होता है।

Back to top button