क्यूबा छोड़ेंगे आधे से ज्यादा अमेरिकी राजनयिक

वॉशिंगटन: अमेरिका ने क्यूबा स्थित अपने दूतावास के आधे से ज्यादा स्टाफ को अपने देश लौट आने का आदेश दिया है।

हाल के दिनों में रहस्यमय हमले के कारण अमेरिकी राजनयिकों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा है, इसे देखते हुए अमेरिका ने अपने राजनयिकों को क्यूबा छोड़ने का आदेश दिया है।

अमेरिका के सेक्रटरी ऑफ स्टेट रेक्स टिलर्सन ने अपने बयान में कहा, ‘क्यूबा सरकार जब तक हमारे राजनयिकों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं करती है तब तक स्टाफ की संख्या कम रहेगी। इसका मकसद राजनयिकों को नुकसान से बचाना है।’

अमेरिका के इस कदम से यूएस और क्यूबा के पहले से नाजुक रिश्ते को और कमजोर होने की संभावना है। काफी समय से एक-दूसरे के दुश्मन रहे दोनों देशों ने हाल के दिनों में दुश्मनी भुलाकर रिश्ते की नई शुरुआत की थी।

वैसे अभी अमेरिका की ओर से अपने नागरिकों को क्यूबा की यात्रा पर जाने से मना नहीं किया गया है लेकिन ऐसा होता है तो क्यूबा को काफी नुकसान पहुंचेगा।

क्यूबा की अर्थव्यवस्था में पर्यटन का अहम योगदान है लेकिन अमेरिका के इस कदम से वहां का पर्यटन प्रभावित होगा।

एक अधिकारी ने बताया, हवाना स्थित अमेरिकी दूतावास को 60 फीसदी के करीब अमेरिकी स्टाफ खाली कर देंगे।

अमेरिका अनिश्चितकाल के लिए क्यूबा के लिए वीजा जारी करना बंद कर देगा। अभी करीब 50 अमेरिकी हवाना स्थित दूतावास में कार्यरत हैं।

गौरतलब है कि बीते कई महीने से हवाना स्थित यूएस दूतावास के कर्मचारियों को निशाना बनाकर खास तरह के हमले हुए हैं।

इन हमलों के कारण इन स्टाफ को स्वास्थ्य संबंधित गंभीर नुकसान हुए हैं। इससे प्रभावित स्टाफ को सुनने में दिक्कत, चक्कर, सिरदर्द, थकान और सोने में दिक्कत जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

यूएस के स्टेट डिपार्टमेंट की ओर से कहा गया है, ‘चूंकि हमारे स्टाफ खतरे में हैं और हम हमले के स्रोत का पता नहीं लगा पा रहे हैं, हमारा मानना है कि अमेरिकी नागरिकों को भी इससे खतरा है और उनको क्यूबा की यात्रा नहीं करने के लिए सावधान करेंगे।’

Back to top button