जात‍िवादी, नस्‍लीय थे गांधी: लेख‍िका सुजाता

न्यूयार्क में रहने वाली दलित लेखिका ने जयपुर साहित्य महोत्सव में कहा कि गांधी जाति व्यवस्था को केवल संवारना चाहते थे

जात‍िवादी, नस्‍लीय थे गांधी: लेख‍िका सुजाता

भारतीय अमेरिकी लेखिका सुजाता गिडला जयपुर साहित्य महोत्सव में महात्मा गांधी को नस्लीय होने की बात कहकर विवादों में घिर गई हैं। उन्होंने फेस्टिवल में कहा , ‘महात्मा गांधी जातिवादी और नस्लीय थे, जो जाति व्यवस्था को जिंदा रखना चाहते थे। राजनीतिक फायदे के लिए दलित उत्थान पर केवल जबानी जमा खर्च करते थे।’ न्यूयार्क में रहने वाली दलित लेखिका ने जयपुर साहित्य महोत्सव में कहा कि गांधी जाति व्यवस्था को केवल संवारना चाहते थे।
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

‘अछूतों के उत्थान की बातें करते थे’
गिडला ने कहा, ”वाकई वे जाति व्यवस्था की रक्षा करना चाहते थे। यही कारण है कि अछूतों के उत्थान के लिए वे केवल बातें करने तक सीमित रहे क्योंकि ब्रिटिश सरकार में राजनीतिक प्रतिनिधित्व के लिए हिंदुओं को मुसलमानों के खिलाफ बहुमत की जरूरत थी। हिंदू नेताओं ने सदा जाति मुद्दे को उठाया।” अपने तर्कों को जायज ठहराने के लिए उन्होंने कहा, ”अफ्रीका में जब लोग पासपोर्ट शुरू करने के लिए ब्रिटिश सरकार के खिलाफ लड़ रहे थे तो उन्होंने कहा कि भारतीय लोग मेहनती होते हैं। उनके लिए इन चीजों को साथ लेकर चलना जरूरी नहीं होना चाहिए। लेकिन अश्वेत लोग काफिर और असफल होते हैं और वे आलसी हैं।

1
Back to top button