खेल मंत्री के बयान पर रैसलर योगेश्वर दत्त ने किया विरोध

जालन्धर : हरियाणा में इन दिनों कॉमनवैल्थ गेम्स में मैडल जीतकर आए खिलाड़ी सरकार की बेरुखी से परेशान है। क्योंकि बीते दिन ही हरियाणा के खेल मंत्री ने बयान दिया था कि उनकी सरकार सिर्फ उन प्लेयर्स को ही सम्मानित करेगी जो हरियाणा की ओर से खेले थे। विज के इस बयान का पहले फोगाट बहनें और अब रैसलर योगेश्वर दत्त ने भी विरोध कर दिया है।

योगेश्वर दत्त ने अपने ट्विटर पर डाली पोस्ट में लिखा है कि माननीय मुख्यमंत्री जी। केवल हरियाणा से खेले गए खिलाडिय़ों को ही सम्मानित करने का निर्णय निंदनीय है। ऐसा करना न केवल खिलाडिय़ों का अपमान है बल्कि संपूर्ण खेल जगत का तिरस्कार है। दरअसल बहुत सारे खिलाड़ी ऐसे हैं जो मूलत: हरियाणा के हैं लेकिन रहते किन्हीं दूसरे राज्यों में है। ऐसे में हरियाणा सरकार ने बयान जारी कहा था कि कॉमनवैल्थ गेम्स में विजेता उन खिलाडिय़ों को ही ईनाम में पैसे दिए जाएंगे जो केवल हरियाणा में रहकर ही खेलें। इस फैसले का विभिन्न खिलाडिय़ों ने जमकर विरोध किया था।

बता दें कि बीते महीने हुईं कॉमनवैल्थ गेम्स में हरियाणा के कुल 38 खिलाडिय़ों ने हिस्सा लिया था। इनमें से 22 ने मैडल जीते। हरियाणा सरकार ने बयान जारी किया कि गोल्ड मैडल जीतने वाले प्लेयर्स को 1.5 करोड़, सिल्वर मेडलिस्ट को 75 लाख तो ब्रॉन्ज जीतने वाले खिलाड़ी को 50 लाख रुपए दिए जाएंगे। वहीं, प्रतिभागी खिलाडिय़ों को 7.5 लाख रुपए दिए जाएंगे। ऐसे में ईनाम में मिल रही बड़ी रकम को लेकर विभिन्न खिलाडिय़ों में उत्साह जागा था। लेकिन हरियाणा सरकार ने जब केवल हरियाणा से ही खेले खिलाडिय़ों को सम्मानित करने का फैसला किया तो इसका विरोध शुरू हो गया। कहा गया- साइना नेहवाल, गगन नारंग, सुशील कुमार समेत कई खिलाड़ी पहले भी हरियाणा से बिना खेले सम्मानित हो चुके हैं। ऐसे में अब नए खिलाडिय़ों से ऐसा व्यवहार क्यों किया जा रहा है।
<>

advt
Back to top button