योग से शरीर, मन एवं आत्मा में संतुलन स्थापित होता है : टंडन

विश्व योग दिवस के अवसर पर राजभवन में आज सुबह योग शिविर का आयोजन

रायपुर : राजभवन में आज सुबह यहां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योग शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव श्री सुरेन्द्र कुमार जायसवाल ने राज्यपाल बलराम दास टंडन के योग संबंधी संदेश का वाचन किया।

राज्यपाल ने अपने संदेश के माध्यम से सभी से नियमित रूप से योग करने की अपील की। उन्होंने कहा कि योग एक प्राचीन भारतीय जीवन पद्धति है, इसका वर्णन हमारे वेद-उपनिषदों में मिलता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे विश्व को योग का महत्व बताया। उनके प्रयासों के फलस्वरूप ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने प्रति वर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया।

राज्यपाल ने कहा कि योग से शरीर, मन एवं आत्मा में संतुलन स्थापित होता है। जिससे मनुष्य एकनिष्ठ, एकाग्र एवं स्थिर होता है एवं योग करने से उनकी आंतरिक शक्तियां भी जागृत होती हैं। गीता में श्रीकृष्ण ने कहा है कि ‘योगः कर्मषु कौशलम्’ अर्थात योग से कर्मों में कुशलता आती है एवं योग से मन के भीतर नकारात्मक शक्तियों के स्थान पर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

इस अवसर पर राज्यपाल की उप सचिव श्रीमती रोक्तिमा यादव, राज्यपाल के विधिक सलाहकार श्री एन.के. चन्द्रवंशी सहित राजभवन सचिवालय के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। शिविर में छत्तीसगढ़ योग आयोग के प्रशिक्षक श्री ए. के. साहू और उनके शिष्यों ने विभिन्न तरह के योगासनों एवं प्राणायाम की प्रत्यक्ष जानकारी दी।

Back to top button