छत्तीसगढ़

इस दिवाली में रंगीन मिठाई से आप रहे सावधान

खाद्य एवं औषधि विभाग मौन

जागेश्वर सिन्हा

बालोद।

खाद्य पदार्थो में मिलावट रोकने के लिए सरकार ने भले ही कई कानून बनाएं रखे हो। लेकिन बालोद जिले में खाद्य सामाग्रियों की तय मानक स्तर की भी जांच करने के लिए विभागीय अधिकारियों के पास वक्त नहीं है। कुछ दिन बाद दिवाली का पर्व है।

इधर आम जनता त्योहार मनाने की तैयारी में जूट चूके है। अब तक होटलों में खाद्य सामाग्रियों की जांच पड़ताल नहीं किए जाने से आम जनता के बीच इस बात को लेकर चर्चा है। जिला मुख्यालय सहित आसपास के ग्रामीण इलाकों में प्रदूषित खाद्य सामाग्री बड़े पैमाने पर खपत की जा रही हैं।

इसका उपयोग सामाजिक कार्यक्रमों एवं दैनिक उपयोग में रोजाना हो रहा है। बालोद गुरुर दल्ली ,लोहारा सहित नगर के होटलों में नमकीन एवं मिठाइयां रोजाना खपत हो रही है। लेकिन खाद्य नियमों का पालन नहीं किया जा रहा हैं। व खाद्य अफसरों के नाक के नीचे प्रदूषित सामान बेचा जा रहा हैं। अमानक समान सेहत के लिए खतरनाक साबित हो रही है।

नमकीन बनाने में शुद्ध सामग्रियों का उपयोग नहीं

बताया जा रहा हैं की जिला में बन रही नमकीन और मिठाइयों में शुद्ध बेसन का उपयोग नहीं हो रहा हैं। शुद्धता के नाम पर जो नमकीन मिल रही हैं उसमें पचास फीसदी चना दाल, बीस फीसदी तेवड़ा और दस फीसदी चावल इस प्रकार के मिश्रण से नमकीन तैयारी किया जाता है। साथ ही निम्न गुणवत्ता वाली खाद्य तेल का उपयोग किया जाता है। जो सेहत के लिए बहुत हानिकारक होती है।

धड़ल्ले से जारी है खरीदी बिक्री

जिले में मिलावटी और अमानक सामग्री की बिक्री को रोकने के लिए विभागीय अफसर सिर्फ टेबल तक सीमित है। जिसके चलते लोगों तक दूषित खाद्य सामान पहुंच रही हैं। मिठाई दुकानों में धड़ल्ले मिलावटी मिठाई बेची जा रही हैं। सालभर से एक बार भी खाद्द्य विभाग कई दुकानों में आज तक जांच पड़ताल के लिए नहीं पहुंचा है। अफसरों की उदासीन रवैया के कारण मिलावट का खेल सालों से ऐसी चली आ रही है।जब इस सबन्ध में खाद्य औषधि विभाग में पदस्थ अधिकारी के नम्बर ** 2197में जानकारी के लिए सम्पर्क किया गया तो सपंर्क नही हो पाया।

रंगीन मिठाइयों से बचे

वही लोगों को आकर्षित करने के लिए अक्सर दुकानदार मिठाई बनाने में कई प्रकार के रंगों का उपयोग करते है। ऐसे में मिठाइयों खरीदने से बचना चाहिए। वही मिठाई में मिलाई गई। सेंथेटिक रंग के कारण खाने के बाद स्वाथ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

यह है प्रावधान

खाद्य सुरक्षा एक्ट के अनुसार सैम्पल असुरक्षित मिलने पर मामला सीजेएम कोर्ट में जाता है। ऐसे मामले में छह महीने से आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है। वहीं सैम्पल अमानक मिलने पर मामला एडीएम कोर्ट में जाता है। जिसमें अधिकतम तीन लाख के जुर्माने का प्रावधान है।

60 दिन के बाद प्रदूषित हो जाती है सामग्री

नमकीन व्यापार से जुड़े लोगों के मुताबिक नमकीन पैकिंग से 60 दिन तक खराब नहीं होती हैं। 60 दिन के बाद प्रदूषित होने लगती हैं। पैकेट में पैकिंग डेट होनी चाहिए। नमकीन बनाने वाली जगह साफ -सफाई होना जरुरी हैं। पैकेट पैकिंग खुली हाथों से की जाती हैं जो सबसे ज्यादा नुकसानदायक हैं।

वही खाद्य सामग्री में कितनी कौनसी समाग्री मिलाई गई और कब पैकिंग हुई यह सब अंकित होना चाहिए। लायसेंस नंबर और निर्माता का पूरा पता अंकित होना चाहिए। ये सब नहीं होने के स्थिति में खाद्य सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई हो सकती हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
इस दिवाली में रंगीन मिठाई से आप रहे सावधान
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt