छत्तीसगढ़

मंत्री उमेश पटेल की मुहिम ग्रीनचर्या दिनचर्या के तहत युवा कांग्रेसियों ने किया वृक्षारोपण

प्रदेश के कैबिनेट मंत्री उमेश पटेल के द्वारा एक मुहिम चालू की गई है ग्रीनचर्या दिनचर्या।

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

रायगढ : कोरोना संकट काल में जिस प्रकार पूरा विश्व इस महामारी के चपेट में आया हुआ है कहीं ना कहीं प्रकृति का जिसका जिस प्रकार से मानव ने विनाश किया है दोहन किया है अगर पेड़-पौधे और कम होते गये तो ग्लोबल वार्मिंग की समस्या और अधिक पैदा होने लगेगी। जिसका असर वर्तमान में दिखाई भी दे रहा है।

पर्यावरण का संतुलन बिगड़ने लगा है। स्थिति यह है कि पिछले 10 साल में पृथ्वी का तापमान बढ़ा है।आज हम सभी लोगों ने देखा कोरोना संकट काल के समय जो लॉकडाउन लगा इससे हमारे जो प्रकृति है किस प्रकार से साफ हुई है स्वच्छ हुई हैं,इस सब का उदाहरण हमने देखा है।इस प्रकृति को सही करने के लिए हम सभी का कुछ योगदान हो,इसके लिए हमारे प्रदेश के कैबिनेट मंत्री उमेश पटेल के द्वारा एक मुहिम चालू की गई है ग्रीनचर्या दिनचर्या।

मंत्री उमेश पटेल ने

मंत्री उमेश पटेल ने यह बताने का प्रयास किया है की हम लोग किस प्रकार से ग्रीनचर्या को अपने दिनचर्या में लागू कर आने वाले संकटो से बच सकते हैं।युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव संदीप अग्रवाल ने कहा कि जिस प्रकार से मानव ने प्रकृति का विनाश किया है निश्चित ही आने वाले समय में इसके भयंकर परिणाम हमारे को देखने को मिलेंगे जिसको छोटा सा रूप माना जाए इस कोरोना संकट का जो हमारे विश्व में जिस प्रकार से फैला है जिस प्रकार से पूरा विश्व इससे परेशान है इससे हमको सीख लेते हुए आने वाले हमारी पीढ़ी के लिए हम अगर कुछ दे सकते हैं उनके लिए कुछ कर सकते है।

उसके लिए हमको कुछ न कुछ अवश्य करना चाहिए अगर हम हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए अगर कुछ करके नहीं दे सके तो आने वाली पीढ़ी को हम लोग को जवाब देना बहुत मुश्किल हो जाएगा। इसके लिए आज हम युवक का कांग्रेसियों ने युवा काँग्रेस के प्रदेश सचिव संदीप अग्रवाल के नेतृत्व में 50 से अधिक युवा कांग्रेसियों ने प्रण किया है कि अपने अपने घर से शुरुआत करके जहाँ हम लोगों को समझ में आएगा कि हम लोग वृक्षारोपण कर सकते हैं वहां पर हम लोग वृक्षारोपण करेंगे और और हमारे से जुड़े और भी साथियों से करवाने का प्रयास करेंगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button