रोजगारमूलक जनकल्याणकारी योजनाओं से जुड़कर युवा बने उद्यमी: कलेक्टर

- मनोज मिश्रा

महासमुंद: कलेक्टर सुनील कुमार जैन के निर्देश एवं मार्गदर्शन में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता (एमएसएमई) प्रमोशन प्रोग्राम के तहत आज बसना विकासखंड के ग्राम गढ़फुलझर में शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता संबंधी शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 10 हितग्राहियों को 47 लाख 59 हजार रूपए का ऋण स्वीकृत कर शिविर स्थल पर ही हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी, अपर कलेक्टर मोहम्मद शरीफ खान विशेष रूप से उपस्थित थे।

शिविर में उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने कहा कि जिले के ग्रामीण जनता को उपलब्ध संसाधनों के आधार पर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। उन्हें शासन द्वारा संचालित विभिन्न हितग्राही मूलक जनकल्याणकारी योजनाओं के तहत ऋण प्रकरण स्वीकृत की प्रदाय किया जा रहा है। यह कार्यक्रम चरणबद्ध तरीके से चलाया जा रहा है, जिसका अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। इस शिविर के माध्यम से लाभान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि138 से अधिक हितग्राहियों 6 करोड़ रूपए से अधिक का ऋण हितग्राहियों को वितरित की जा चुकी है।

कलेक्टर ने कहा कि कोई भी व्यापार या व्यावसाय छोटे स्तर से प्रारंभ होता है और फिर वह बड़े उद्योग का रूप लेता है। हितग्राही अपने परिश्रम और मेहनत से उद्योगों को बढ़ावा देंगे तथा दूसरों को भी अपने उद्योगों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने कहा कि लघु एवं छोटे व्यवसायियों के लिए जेम पोर्टल की व्यवस्था की गई है इसके द्वारा ऑनलाईन खरीदी की जाती है तथा देश भर में इसके लिए बाजार उपलब्ध होता है। जिले के अनेक ऐसे उद्यमी है जो विभिन्न प्रकार के अच्छे उत्पाद तैयार कर रहे है।

वे सभी जेम पोर्टल में पंजीयन करा सकते है और अपना उत्पाद आसानी से विक्रय कर सकते है इसके अलावा शासकीय विभागों में भी मॉग के अनुरूप अपने सामानो की आपूर्ति कर सकते है। कलेक्टर ने कहा कि व्यवसाय एवं बाजार के बदलते स्वरूप के साथ उद्यमी चलने का प्रयास करे और अपने छोटे-छोटे उद्योगों को बढ़ावा देते हुए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि शिविर स्थल पर शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी गई है। ग्रामीणजन इन विभागों की संचालित योजनाओं की जानकारी लेकर भरपूर लाभ उठाएं।

कलेक्टर ने कहा कि शिविर स्थल पर दिव्यांगजनों के परीक्षण लिए शिविर का आयोजन किया गया है जहां जिले के विशेषज्ञ चिकित्सकों का मेडिकल बोर्ड यहां उपस्थित है, इनका पंजीयन कार्य भी चल रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि यहां सामान्य स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जा रहा है जिसका लाभ ग्रामीणजन उठाएं। उन्होंने संबंधित विभागों के अधिकारियों से कहा कि आगामी शिविरों में सभी प्रकार की व्यवस्थाओं के साथ उपस्थित होए और अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित करें।

शिविर स्थल पर जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, ग्रामोद्योग, हाथकरघा, अंत्यावसायी, सहकारी वित्त एवं विकास निगम, जिले के बैंकर्स सहित अन्य रोजगार से जुड़े विभागों के संयुक्त समन्वय से स्वरोजगार एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं से लाभान्वित करने के उद्देश्य से अपने अपने विभाग की जनकल्याणकारी एवं हितग्राहीमूलक योजनाओं की जानकारी दी और किस तरह लाभ उठाया जा सकता है, उनकी संम्पूर्ण प्रक्रियाओं से अवगत कराया गया।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.बी. मंगरूलकर, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आर के वर्मा, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक संजय गजघाटे, आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त एन.आर. देवांगन, श्रम पदाधिकारी घनश्याम पाणीग्राही, लीड बैक अधिकारी अरूण मिश्रा, जिले के विभिन्न बैंको के अधिकारी सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

युवाओं को दिया रोजगार के लिए ऋण स्वीकृति पत्र सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमिता (एमएसएमई) प्रमोशन प्रोग्राम के तहत आज शिविर में जय मां दुर्गा स्व सहायता समूह, धन लक्ष्मी स्व सहायता समूह, सूर्या स्व सहायता समूह को एनआरएल के तहत 2-2 लाख रूपए, हेमनाथ जगत को मुद्रा लोन के तहत 2 लाख, चुरेन्द्र कुमार को 2 लाख, सरस्वती स्व सहायता समूह को एक लाख, अमर बाघ को एक लाख, सुनीता बाई को एक लाख 59 हजार, सरस्वती नायक को 25 हजार को विभिन्न व्यवसाय के लिए ऋण स्वीकृति पत्र प्रदान किया गया।

इसके अलावा दीनदयाल उपाध्याय योजना के तहत 7 महिलाओं को कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षण प्राप्त प्रमाण पत्र प्रदाय किया गया। श्रम विभाग द्वारा 5 महिलाओं का श्रमिक पंजीयन एवं एक महिला को ई-रिक्शा सहायता योजना के तहत ऋण. स्वीकृत तथा प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना के तहत 3 हितग्राहियों को सामान्य लोक सेवा केंद्र खोलने की अनुमति दी.

Back to top button