छत्तीसगढ़

युवा महोत्सव, बिखेरी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा

रायपुर।

तरीहरि नाना, नाना मोर सुवा…आंखी आंखी झूलत रहवे.. तोर ज्योत जलाई दलाई.. कुछ इस तरह के गीत से जब दिशा कॉलेज के स्टूडेंट्स ने डांस किया तो उपस्थित लोग भावविभोर हो उठे। स्टूडेंट्स ने इस डांस से नवरात्रि में मां दुर्गा के स्वरूप को दिखाया।

मौका था पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में युवा-उत्सव का, जहां भारतीय विश्वविद्यालय के तत्वावधान में सम्बलपुर में 12 से 16 नवंबर को 34वां मध्यजोन अंतर विश्वविद्यालय का आयोजन होना है।

इसके लिए पं. रविशंकर से संबद्ध 41 कॉलेज के 765 स्टूडेंट्स तीन दिन तक पे्रक्षागृह में अपनी प्रतिभा को प्रस्तुत कर रहे हैं। बुधवार को पांच तरह के कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए, जिसमें पोस्टर मेंकिं ग, कार्टून, स्पॉट पेंटिंग, गु्रप-सोलो डांस और रंगोली शामिल थे।

बस्तर के जनजीवन को रंगों से दिखाया

युवा उत्सव में रंगोली से स्टूडेंट्स ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति को खूबसूरत ढंग से प्रजेंट किया। दिशा कॉलेज से आयुषी वर्मा ने 8 रंगों के जरिए बस्तर जनजीवन को दिखाया। आदिवासी और उनके रहन सहन को बखूबी रंगो से उकेरा।

वहीं आदर्श महाविद्यालय से भगवानी प्रसाद वर्मा ने 6 रंगों से छत्तीसगढ़ी नोनी की मनमोहक दृश्य बनाया। इसी क्रम में धमतरी से अविनाश कुमार चंन्द्राकर ने 22 रंगों की मदद से बस्तर कल्चर को उकेरा। रंगोली में कुल 11 छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इसमें स्टूडेंट्स को छत्तीसगढ़ की संस्कृति टॉपिक दिया गया था, जिसे 2:30 घंटे में बनाना था।

डांस में दिखाया जलवा

पंडित रविशंकर के पे्रक्षागृह में युवा उत्सव के मौके पर स्टूडेंट्स ने फोक डांस किया। ग्रुप डांस के लिए 11 कॉलेजों के टीम ने हिस्सा लिया, वही सोलो डांस में 5 कॉलेज के छात्रों ने पार्टिसिपेट किया। ग्रुप डांस के लिए 15 मिनट तो वही सोलो डांस के लिए 10 मिनट का समय दिया गया था।

ड्रग्स स्वास्थ्य के लिए हानिकारक

पोस्टर मेकिंग में छात्रों को ड्रग्स, इंडियन कल्चर और यूथ फेस्टीवल टॉपिक दिया गया था। पोस्टर के जरिए छात्रों ने बताया कि देश में कैसे यूथ ड्रग्स की चपेट में आ रहे है, और इसे किस तरह का नुकसान हो रहा है। इसमें कुल 10 छात्रों ने हिस्सा लिया जिनको 2:30 घंटा का समय दिया गया था।

आज के कार्यक्रम

संगीत में शास्त्रीय एकल गायन, शास्त्रीय वाद्य एकल (ताल), शास्त्रीय वाद्य एकल (गैर ताल), सुगम गायन, समूह गायन, का आयोजन होगा।

लिटररी इवेंट के अंतर्गत वाद-विवाद में विषय ‘इस सदन की राय में क्या वर्तमान परिप्रेक्ष्य में गांधीजी के विचारों की प्रासंगिकता है और परिचर्चा का विषय ‘भारत में स्वच्छता के अग्रदूत महात्मा गांधी विषय पर कार्यक्रम प्रेक्षागृह में आयोजन किया जाएगा।

Summary
Review Date
Reviewed Item
युवा महोत्सव, बिखेरी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags