जिपं सीईओ ने कहा -आवेदनों का गुणवत्तापूर्ण हो निराकरण

रायपुर।

जिला कलेक्टरोट परिसर स्थित रेडक्रॉस के सभाकक्ष में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. गौरव कुमार सिंह ने साप्ताहिक समय-सीमा की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने लंबित प्रकरणों की विभागवार समीक्षा करते हुए समय-सीमा में गुणवत्तापूर्ण निराकरण सुनिश्चित करने के निर्देश संबंधित विभागीय अधिकारियों को दिए।

डॉ. सिंह ने कहा कि सभी कार्यालय प्रमुख लंबित आवेदनों को व्यक्तिगत रूप से देखे और उनका निराकरण सुनिश्चित करें ताकि जरूरतमंद और आमजनों को लाभ मिल सके। डॉ. सिंह ने लोक सेवा केन्द्रों में प्राप्त आवेदनों की समीक्षा करते हुए निर्धारित समय-सीमा में निराकरण सुनिश्चित करने को कहा है।

नरवा, गरूवा, घुरूवा और बारी के कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता से करें

सीईओ डॉ. सिंह ने कहा कि राज्य सरकार की मंशानुरूप नरवा, गरूवा, घुरूवा और बारी के संरक्षण और संवर्धन के कार्याे को संबंधित विभागीय अधिकारी सर्वोच्च प्राथमिकता से संपादित करें। उन्होंने बताया कि वर्तमान में रायपुर जिले के 81 गांवों में स्थल का चयन कर गौठान और चारागाह विकास का कार्य किया जा रहा है। कृषि, उद्यानिकी, मत्स्यपालन, पशुधन विकास और जल संसाधन विभाग के अधिकारी इन गांवों में स्थल का निरीक्षण कर नरवा, गरूवा, घुरूवा और बारी के कार्यो के क्रियान्वयन हेतु कार्ययोजना तैयार कर लें ताकि इसका समुचित लाभ यहां के ग्रामवासियों को मिल सके।

उन्होंने बताया कि गोठान मवेशियों के डे-केयर सेंटर के साथ ही मल्टीलाईवलीहुड सेंटर के रूप में विकसित किए जाएंगे। इसके लिए पशुधन विकास विभाग के अधिकारियों को गांव में पशुओं का सर्वे कर शीघ्र रिर्पोट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

उन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारी गोठान के चारों और फेसिंग के अंदर फलदार पौधे भी लगाने को कहा है ताकि ग्रामवासियों को इसका लाभ मिल सके। मत्स्य विभाग को गोठान के नजदीक बनाए जाने वाले तालाबों में मछलीपालन की कार्ययोजना तैयार करने को कहा गया है। बैठक में अपर कलेक्टर क्यू.ए.खान, अपर कलेक्टर आशुतोष पाण्डेय सहित सभी विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button